Wednesday

अंजानी डगर पार्ट--18 - Xstoryhindi

आगे.................... अलीना को पहली बार देखते ही हम दोनो भी फ्लॅट हो गये थे. कॉलेज के बाद अलीना को बाहर कार तक जाते हुए हमने देख लिया था. बबलू- अबे साले ये लड़की है या आटम बॉम्ब है. तभी मैं कहु की हमारा बॉल-ब्रह्मचारी कैसे फँस गया इसके जाल मे. विक्की- सालो पूरा कॉलेज लत्तु है इसके पीछे. इसके एक इशारे पर लड़के सब कुछ लूटने को तैयार बैठे है. आशु- पर बेटा इसने तो तुझसे ही अपनी चुचियो को दब्वाया था ना. बबलू- ये बात तो है. साले ने मज़ा तो अकेले अकेले ले लिया. और फिर आ गया हमारे पास... हमारी बतो से विक्की को फिर वही लाइब्ररी मे हुई उसकी फ़ज़ीहत का सीन याद आ गया था और उसका मूड ऑफ हो रहा था. मैने बबलू को चुप रहनेक़ा इशारा किया. तभी अलीना की कार जाने लगी तो हम भी उसका पीछा करने लगे. वीकडेस मे लगभग रोज ही कॉलेज के बाद हम तीनो बबलू की कॅलिबर पर अलीना की कार के पीछे हो लेते थे. अलीना का गवरमेंट. बंग्लॉ चाणकया पूरी मे था. कार सीधे गेट मे घुस जाती फिर बस. आगे कोई रास्ता नही था. कॉलेज मे उसे छेड़ भी नही सकते थे. धीरे-धीरे हमने उसके बंग्लॉ के चोकीदार बहादुर से मेल-जोल बढ़ाया. साले को रोज राजदरबार गुटखे के 5 पाउच की रिश्वत देनी पड़ती थी. वो भी समझता था कि हम अलीना के पीछे पड़े है. हफ्ते भर मे ही हमने उस से अलीना के बारे मे काफ़ी कुछ पता कर लिया था. अलीना के पापा हमेशा टूर पर रहते थे. कभी इस देश मे तो कभी उस देश मे. अलीना के इस गोरे जिस्म का राज भी हमको पता चल गया था. दरअसल उसकी मम्मी रोमेनियन थी. जब अलीना के पापा की पोस्टिंग रोमेनिया मे हुई थी तो सोफीया नाम की लोकल लड़की से उनको प्रेम हो गया और फिर शादी. इंडो-रोमेनियन पैदाइश थी अलीना. पर सोफीया आंटी के आगे तो उसकी जवानी पानी भरती थी. हालाँकि हमने कभी उनकी झलक भी नही देखी थी. बहादुर ने ही बताया था. हम मौके की फिराक मे थे. तभी अचानक अलीना 3-4 दिन कॉलेज नही आई तो हम परेशन हो गये. कही उसके पापा का ट्रान्स्फर तो नही हो गया. हमसे रहा नही गया तो एक दिन तीनो कॉलेज के बाद सीधे बहादुर के पास पहुचे गये. बबलू- अबे साले तुझे इतना माल खिला चुके है...पर अब तक कोई भी काम की बात नही बताई तूने. बहादुर- सब कुछ तो बता दिया साहब. इस से ज़्यादा क्या बताउ. आशु- भाई ये अलीना कहा गायब हो गयी अचानक ? बहादुर- मुझे तो पता नही की कहा गयी. हा मैने भी कई दिन से उनको बाहर जाते नही देखा.....अरे अरे साइड हो जाओ...बड़ी मेम की गाड़ी आ रही है.... तभी एक वाइट अंबासडर कार जिसपर विदेश मंत्रलया, भारत सरकार लिखा था वाहा आकर रुकी. पीछे का ग्लास नीचे हुआ और एक 40 साल की महिला दिखाई दी. ये सोफीया आंटी ही थी. बहादुर की बातो पर विश्वास नही हुआ था की अलीना की मा उससे भी सुंदर है. सोफीया आंटी को देखते ही हम तीनो के लंड तंन से खड़े हो गये थे. सोफीया- क्या बात है बहादुर. कौन है ये तीनो. आशु- गुड ईव्निंग आंटी. हम अलीना के क्लासमेट्स है. अलीना कई दिन से कॉलेज नही आई तो उसका हाल जानने के लिए आए थे. सोफीया- ओह्ह तो तुम अलीना के क्लासमेट हो. बहादुर इनको अंदर ड्रॉयिंग रूम मे बिठाओ. अपनी यादो मे खोए विक्की को बीच पर चलते चलते अचानक ठोकर लगी. वो गिरते गिरते बचा था. उसने घड़ी देखी तो 3 बज चुके थे. फिर उसने तेज़ी से बाहर की ओर कदम बढ़ा दिए. ठीक 4 बजे वो प्रेम स्टूडियो के बाहर खड़ा था. अंदर जाकर उसने रिसेप्षनिस्ट को अपना जॉब-कार्ड दिया और कहा की वो असिस्टेंट कॅमरामेन की जॉब के लिए आया है. रिसेप्षनिस्ट ने उसे देखा और थोड़ी देर वेट करने को कहा. विक्की वाहा रखे सोफे पर बैठ गया. वाहा पर 2 मस्त लड़किया भी बैठी थी. पर उसने ध्यान नही दिया. रिसेप्षनिस्ट- मिस्टर. विक्की आप 3र्ड फ्लोर पर रूम नो. 311 मे चले जाइए. विक्की उठा और रिसेप्षनिस्ट के बताए कमरे की ओर चल दिया. पूरी बिल्डिंग मे फ़िल्मो के पोस्टर लगे थे. वो लिफ्ट मे घुसा और 3 का बटन दबा दिया. थर्ड फ्लोर पर एक गॅलरी थी और लाइन से दोनो और कमरे थे. 311 के आगे पहुच कर उसने नॉक किया तो आवाज़ आई- कम इन. विक्की कमरे मे घुस गया. बेहद आलीशान कमरा था. उस रूम मे एक तरफ 4-5 बड़े से सोफे लगे थे. रूम के अंदर मैं डोर के अलावा भी डोर थे. एक बड़ी सी टेबल भी थी तो जिस साथ चेर पर एक आदमी बैठा सिगरेट के कश लगा रहा था. विक्की- सर मैं असिस्टेंट कॅमरामेन के काम के लिए आया हू. सर- हा क्या नाम है तुम्हारा. विक्की- सर विक्की. सर- विक्की बाबू आओ इधर बैठो. पहले कभी कही काम किया है ? विक्की- जी नही इसीलिए तो असिस्टेंट की नौकरी ढूँढ रहा हू. सर- अच्छा अच्छा. फिर उन्होने टेलिफोन का एक बटन दबाया. सर- रोज़ी. रोज़ी- एस सर. सर- वो आडिशन के लिए लड़किया बुलाई थी....वो आ गयी. रोज़ी- एस सर. 2 लड़किया आई है. सर- ठीक है 1 को अंदर भेज दो और कमू जी, बशु जी और सोनी जी को भी अंदर भेज देना. रोज़ी- ओके सर. 10 मिनिट बाद ही नीचे बैठी लड़कियो मे से एक उस कमरे मे थी. बाकी तीनो व्यक्ति भी कमरे मे आ गये थे. तीनो ही एक से एक छटे हुए बदमाश लग रहे थे. कमीनपन चेहरे से ही टपक रहा था. तीनो खा जाने वाली नज़ारो से उस लड़की को देख रहे थे. बार बार जीभ लॅप-लपा रही थी. लड़की- गुड ईव्निंग मनी सर. मनी सर- ओह गुड ईव्निंग. सेलिना नाम है तुम्हारा. लड़की- एस सर. आपको मेरा नाम भी याद है. लड़की कुछ ज़्यादा ही चहक रही थी. मनी सर- हा कामिनी मेडम ने बताया था. इन से मिलो ये है कमू जी, बशु जी, सोनी जी और विक्की. सेलिना- हेलो सर. सेलिना- हा तो आप आडिशन देने आई है. लड़की- एस सर. सेलिना- देखिए मिस सेलिना. हमारी कंपनी एक दम हट के फिल्म बनाती है. ये करिश्मा, मधुरी, और रवीना सभी को हमने ही लॉंच किया था. आज ये सभी टॉप की हीरोयिन बन चुकी है. सेलिना- जी सर. मनी सर- आप बताइए की आप क्या कर सकती है. सेलिना- जी मुझे कत्थक आता है और भारतनाट्टयम भी. चारो ज़ोर से हंस पड़े. पर विक्की चुपचाप बैठा रहा. बशु- मेडम आप कौन से जमाने मे हो. अब लोग सिनिमा हॉल मे कत्थक-वात्थक नही हेरोएनो का माल देखने जाते है. कमू- मेडम आपको आक्टिंग भी आती है ? सेलिना को ऐसी रेस्पॉन्स की उम्मीद नही थी. उसके चेहरे का रंग उड़ने लगा था. सेलिना- सर यस सर. मैं हर तरह की आक्टिंग कर सकती हू. मनी सर- देखो सेलिना. ये सब इतना आसान नही है. मैने बहुत लड़किया देखी है जो दावे तो बड़े बड़े करती है पर कॅमरा के सामने जाने के बाद छुई-मुई बन जाती है. इस लाइन का उसूल है कि जिसने की शरम उसके फुट करम. तुमने इस साल रिलीस हुई बूम फिल्म देखी है. सेलिना- जी. मनी सर- उसमे देखा तुमने कि नई लड़कियो को कैसे अंग-प्रदर्शन करना पड़ता है. सेलिना- जी सर. मानी- क्या तुम बिकिनी पहन सकती हो ? सेलिना- जी मैं वो... अब तक चुप बैठा कमू बोला- मनी सर..मुझे तो नही लगता कि ये हमारी अगली फिल्म मे काम कर पाएगी. यह सुनकर सेलिना का रहा सहा दम भी निकल गया. वो ये चान्स नही छोड़ सकती थी. उसके मूह से निकल ही गया. सेलिना- सर मैं तैइय्यार हू. बशु- सोच लो फ़िल्मो मे काफ़ी कुछ दिखाना पड़ता है. सारी हिचक छोड़ कर ही आगे कदम बढ़ाना. कही आईं मौके पर तुम भी धिसल जाओ. सोनी- हा भाई हमारे करोड़ो रुपयो का सवाल है. सेलिना- सर आप जैसा कहेंगे मैं वैसा ही करूँगी. मुझे बस एक बार मौका देकर तो देखिए. कमू- मनी भाई आप भी ना...किसी को भी बुला लेते हो. एक्सट्रा का रोल दे दो ना. सेलिना- सर प्लीज़ एक बार आडिशन तो ले लीजिए. मनी- कामिनी मेडम की बात को टाल भी तो नही सकता था ना. जब ये खुद कह रही तो तुम एक बार आडिशन लेकर भी देख लो भाई. बशु- जैसा आप कहे मनी भाई. चलो मैं तुम्हे आडिशन के लिए हमारी फिल्म का प्लॉट समझता हू. उन दोनो की बाते ने संजीवनी का काम किया. वो फुर्ती से खड़ी हो गयी और बशु के पीछे हो ली. मनी- सुनो विक्की. विक्की- जी सर. मनी- तुम्हारा भी आडिशन साथ मे हो जाएगा. तुम भी जाकर आडिशन रूम मे कॅमरा वग़ैरह चेकककर लो. विक्की- जी सर. आडिशन रूम मे पहुच कर विक्की सीधे कॅमरा के पास चला गया. आडिशन रूम के साथ मे ही एक अब्ज़र्वेशन रूम भी था. सेलिना और बशु उसी कमरे मे थे. दोनो कमरो के बीच की दीवार मे बड़ी सी विंडो थी. दोनो की बातचीत की आवाज़े विक्की के कम मे भी पड़ रही थी. बशु- तो शुरू करे....सेलिना ? सेलिना- यस सर. बशु- देखो हमारी फिल्म एक सस्पेनस थ्रिलर रिवेंज मिस्टरी है. फिल्म की कहानी गोआ मे शुरू होती है. हीरोयिन विदेश से इंडिया मे अपने एक इंडियन इंटरनेट बाय्फ्रेंड से मिलने आती है. वाहा पर किसी एंपी के बेटे हीरोयिन का किडनॅप करके 1 महीने तक उसका रेप करते है. उसके किडनॅप मे लड़की के उसके बाय्फ्रेंड का भी हाथ होता है. आगे वो उसे बेचने वाले होते है पर, हीरोयिन उनसे छूट कर भाग जाती है. उसके बाद वो मार्षल आर्ट्स की ट्रैनिंग लेती है और उन लोगो से बदला लेती है. सेलिना (चहकते हुए)- सर प्लॉट तो बहुत अच्छी है. सूपर ड्यूपर हिट होगी. बशु- हा फिल्म मे हीरोयिन का बहुत ही चॅलेंजिंग रोल है....तुम कर पओगि... सेलिना- सर म...मैं कर लूँगी...सर आप मुझ पर विश्वास कीजिए. बशु- मेरे विश्वास करने से क्या होता है. तुमको आडिशन मे अपनी केपबिलिटी साबित करनी होगी. डाइरेक्टर और प्रोड्यूसर का दिल जीतना होगा. सेलिना- सर आप एक बार आडिशन तो लीजिए. बशु- देखो अभी तुमको रेप सीन का ही आडिशन देना है. क्योकि इसी पर पूरी फिल्म टिकी है. सेलिना- सर आपका मुझ पर बड़ा एहसान होगा. ऐसी आक्टिंग करूँगी की एक दम असली लगेगा. बशु- मनी सर को असली ही चाहिए. वो तो सारे स्टंट भी हीरो- हीरोयिन से करवाते है. सेलिना- जी बशु- सोनी सर और बाकी लोग तुम्हारे साथ रेप सीन करेंगे. मनी सर यहा से देखेंगे. सेलिना- जी. बशु- ठीक है तो वाहा जाकर कॉस्ट्यूम पहन लो. मैं तब तक बाकी तैय्यारि कर लेता हू. सेलिना- ओक सिर. इसके बाद बशु विक्की के पास पहुच जाता है. बशु- हा भाई कॅमरा का मामला सब समझ लिया है ना. आज तुम्हारा भी तो आडिशन है ना. विक्की- सर मैं बिल्कुल तैय्यार हू. लाइट्स वग़ैरह भी सब देख लिया है. आप कभी भी शुरू कर सकते है. बशु- अब देखो एक रेप सीन की शूटिंग होगी. विक्की- जी सर मैने आपकी बात सुन ली थी. बशु- वेल डन माइ बॉय. तुमने तो पहले ही दिन मेरा दिल जीत लिया. अब ये तुम पर है कि तुम किस-किस आंगल से शॉट लेते हो जिससे सीन एक दम हॉट लगे. विक्की- ठीक है सर. क्रमशः........................

b:if cond='data:view.isPost'>                                       

If you want to comment with emoticon, please use the corresponding puncutation under each emoticon below. By commenting on our articles you agree to our Comment Policy
Show EmoticonHide Emoticon

हमारी वेबसाइट पर हर रोज नई कहानियां प्रकाशित की जाती हैं