अंजानी डगर पार्ट--19 - Xstoryhindi

आगे.................... कॉस्ट्यूम के नाम पर एक बिकिनी टाइप की कुछ चीज़ रखी थी. बेचारी ने हा तो कर दी थी पर डर भी लग रहा था. उसे समझ नही आ रहा था की इस चीज़ को कैसे पहने. उसने अपने कपड़े उतार कर उस कॉस्ट्यूम को जैसे तैसे फँसा लिया था. 10 मिनिट बीत जाने के बाद बशु उसके मेकप रूम के बाहर पहुच गया. नॉक नॉक... सेलिना- क...कौन है. बशु- मैं हू बशु. सेलिना- सर मैं अभी चेंज नही कर पाई हू. बशु- क्यो क्या हुआ ? तुम गेट तो खोलो. सेलिना- सर मैने अभी कपड़े नही पहने है. बशु- अरे कोई कपड़ा डाल लो. इस तरह शरमाती रहोगी तो हो लिया आडिशन... यह सुन कर सेलिना ने गेट खोल दिया. उसने वाहा रखा एक टवल बाँध लिया था. उसके गोरे-गोरे कंधे और हाथ दूधिया लाइट मे चमक रहे थे. नंगी गोरी पतली-पतली टाँगो के उपर सफेद टवल मे लिपटी सेलिना बला की सेक्सी लग रही थी. उसे देखते ही बशु के 50 साल के लंड मे सुरसुरी सी दौड़ गयी थी. बशु- देर क्यो कर रही हो. वाहा आडिशन की सब तैय्यारिया पूरी हो चुकी है. सेलिना- सर ये देखिए ना. कितनी छोटी सी ड्रेस है. इसमे तो कुछ ढक ही नही रहा है. बशु- बेबी...जितना ज़्यादा एक्सपोज़ करोगी उतना ही पब्लिक हाथो-हाथ लेगी. सेलिना- पर सर इस से तो मेरे आधे से ज़्यादा बूब्स बाहर दिखे दे रहे है. बशु- यही तो हमारी हमारी इंडस्ट्री का उसूल है कि "जो दिखता है वो बिकता है". सेलिना- पर ये तो मुझसे पहना ही नही जा रहा. बशु- कोई बात नही मैं हू ना. तुम मुझे अपना ही समझो. जाओ जाकर चेंज कर के आओ. कोई दिक्कत होगी तो मैं ठीक करा दूँगा. सेलिना- ओके अंकल. बशु- यहा कोई तुम्हारा अंकल-वंकले नही है. सबको नाम लेकर बोलना यहा. ये इस इंडस्ट्री का पहला उसूल है. यहा कोई सगा नही होता है. सेलिना- ऑश...सॉरी...बशु जी. बशु- हा ये ठीक है. सेलिना वो ड्रेस उठा कर साथ वाले वॉशरूम मे भाग गयी और बशु वही खड़ा सेलिना के जल्वो की कल्पना करने लगा. पर उस ड्रेस को पहनने मे वक्त ही कितना लगना था. 2 मिनिट बाद ही सेलिना टवल लपेटे बाहर आ गयी. बशु- अरे ड्रेस नही पहनी ? सेलिना- पहनी तो है. ये कह कर सेलिना ने टवल नीचे गिरा दिया. ....बेचारे बशु के दिल ने तो जैसे धड़कना ही बंद कर दिया था. गजरी (कॅरोट) रंग की छोटी सी थॉंग बिकनी मे सेलिना का मचलता हुआ यौवन यहा वाहा से झलक रहा था. बेचारी सही तो कह रही थी. उसके बूब्स उस छोटी सी ड्रेस मे कहा समा सकते थे. उस कमरे मे वो दोनो अकेले ही थे. बशु कुछ भी कर सकता था. उसका बूढ़ा होचुका लंड करमरा रहा था. पर उसने खुद को जाने कैसे रोक रखा था. बशु- ड्रेस एक दम ठीक तो है. चलो अब...बहुत देर हो गयी है. सेलिना- ऐसे कैसे आडिशन रूम तक जाउन्गी. रास्ते मे कोई देख लेगा तो. बशु- ओफफ़ो...जहा ये ड्रेस रखी थी...वही पर एक टवल गाउन भी तो रखा होगा. सेलिना- जी हा. बशु- बस वही डाल लो इसके उपर. सेलिना- जी. 5 मिनिट मे दोनो सीधे आडिशन रूम मे पहुच गये. आडिशन रूम मे मनी, सोनी और कमू आ चुके थे और विक्की तो वाहा पहले से था ही. बशु और सेलिना के पहुचते ही मनी बोला- सेलिना जी...अभी आप स्टार बनी नही कि नखरे पहले शुरू हो गये. यह सुन कर बेचारी सेलिना का दिल सहम गया. यह देख कर बशु बोला- मनी जी, वो कॉस्ट्यूम मे थोड़ी दिक्कत आ रही थी. वो मैने सॉर्ट आउट कर दी. अब कोई प्राब्लम नही है. बशु की बात से सेलिना की सांस मे सांस आई. कमू- (मन ही मन) कमीना साला सब हेरोएनो के कॉस्ट्यूम ये ही सेट करता है. हमे तो कभी मौका ही नही मिल पाता. मनी- सेलिना जी आपको बशु जी ने हमारी फिल्म का प्लॉट तो समझा ही दिया है. अब जो आडिशन मे सीन करना है...उसको ठीक समझ लीजिए. सेलिना- बताइए. मानी- देखिए सीन कुछ इस तरह शुरू होता है...आप समुंदर से नहा कर सुंबत चेर पर आकर सन बाथ लेने लगती है.... ..... .... समझ गयी आप. सेलिना- जी सर. मानी- फिर कुछ लड़के आकर आपको छेड़ने लगते है. बीच पर ज़्यादा चहल-पहल नही होती इसका फायेदा उठा कर आपसे रेप करते है. सेलिना- जी मैं समझ गयी. मानी- पर्फेक्ट...डाइलॉग आप खुद अपने मन से बना कर बोल दीजिएगा. चलिए अब शुरू करे. आप प्लीज़ कॉस्ट्यूम मे आ जाइए और इस सुंबत चेर पर लेट जाइए. मेरे आक्षन कहते ही सीन शुरू हो जाएगा. सेलिना ने कमरे मे नज़र दौड़ाई. उसके अलावा वाहा अब कुल 4 जान थे. मनी जी तो कमरे से निकल कर अब्ज़र्वेशन रूम मे चले गये थे. सेलिना ने सकुचाते हुए अपने गाउन की बेल्ट खोली और उसे नीचे गिरा दिया. गाउन का नीचे गिरना था कि अचानक उस कमरे मे 4 तंबू तन गये. हालाँकि सोनी, कमू और बसु के लिए कोई नई बात नही थी. आडिशन मे लड़कियो को ऐसे कपड़ो मे देखने की उनको आदत सी थी. पर इस सेलिना की तो बात ही कुछ अलग थी. उसके अंग-अंग से मादकता झलक रही थी. उधर विक्की का कॅमरा भी सेलिना का क्लोज़-अप ले रहा था. उसका हर एक कटाव और गहराई उसको दूर से ही दिखाई दे रहा था. अलीना और उसकी मा की याद ताज़ा हो आई थी. उसका लंड भी सेलिना के मादक हुस्न को सलामी देने उठ खड़ा हुआ था. सेलिना धीरे धीरे नज़ाकत से जाकर सुंबत चेर पर लेट गयी. उसने एक टांग सीधी रखी और दूसरे का घुटना मोड़ लिया. चेर की और जाते वक्त उसके मम्मे धमक के साथ उठते और फिर वापस थम जाते. उन तीनो के अधेड़ उम्र वालो के दिलो की धड़कन हर धमक के साथ बढ़ती जा रही थी. मनी- लाइट्स.........कॅमरा.........आक्षन कमरे मे बाकी जगह अंधेरा हो गया और केवल सेट पर रोशनी पड़ रही थी. सेलिना चेर पर आँख बंद करके लेटी हुई थी. बशु, सोनी और कमू को लड़को का रोल अदा करना था. सबसे पहले सोनी सेलिना के पास पहुचा. सेलिना के बूब्स उभर कर थॉंग-बिकिनी से बाहर निकल जाने को आतुर हो रहे थे, पर सेलिना ने इस तरफ ध्यान नही दिया. उसे तो बस आडिशन की धुन सवार थी. सोनी- मेडम....मसाज... सेलिना- नो....नही चाहिए... सोनी- मेडम बहुत बढ़िया मसाज करते है. सेलिना- कहा ना नही करवाना... सोनी- मेडम इतनी अच्छी धूप खिली है. आपको सन बात मे मज़ा आएगा. सेलिना- ओह हो...तुम जाओ ...मुझे परेशान मत करो. तभी कमू वाहा पहुचा. कमू- मेडम बस 100 रुपये की तो बात है. सेलिना- मुझे नही करवाना. फिर बशु भी वाहा पहुच गया. बशु- मेडम आपको बहुत अच्छा लगेगा. सेलिना- मेरी मर्ज़ी है कर्वाउ या नही. सोनी- मेडम आपकी सेक्सी बॉडी को एक दम चमका देंगे. कमू- मेडम 3 आदमी के 100 रुपये दे तो रहे है. सेलिना- दे रहे है मतलब ??? सोनी- मेडम हम आपका मसाज करेंगे और 100 रुपये भी देंगे. सेलिना- आइई...मैं वैसी लड़की नही हू... कमू- साली ऐसी ड्रेस पहन कर बीच पर अकेले मे लेटी है और कहती है कि मैं ऐसी-वैसी लड़की नही हू. बशु- साली बहुत भाव खा रही है..... सोनी- पकडो साली के हाथ और पैर...मैं बनाता हू इसको वैसी लड़की. इतना सुनते ही बशु ने एक हाथ से सेलिना के दोनो कलाइया पकड़ ली और दूसरे से उसके मूह पर हाथ रख दिया. कमू ने सेलिना की दोनो टाँगे पकड़ कर खोल ली और ज़मीन पर बैठ गया. और सोनी उसकी दोनो टाँगो के बीच आ कर खड़ा हो गया. क्लॅप क्लॅप क्लॅप मनी- कट...फॅंटॅस्टिक. पर तभी मनी जी के मोबाइल की रिंग बजी और वो अब्ज़र्वेशन रूम से बाहर निकल गये. मनी सर तो चले गये पर यहा तीनो थरकि बूढो ने दूसरे ही तरह से सेलिना का ऑडिटिशन लेने का प्लान बना लिया था. तीनो ने आँखो ही आँखो मे एक दूसरे को इशारा किया. बेचारी सेलिना को भी कुछ समझ नही आ रहा था. वो इस सब को स्क्रिप्ट का ही पार्ट समझ रही थी. उधर विक्की बेचारा बस कॅमरा से शूट किए जा रहा था. समझ मे उसकी भी कुछ नही आ रहा था. सेलिना- सर क्या बात है. मनी सर कट बोल कर चले क्यो गये ? वो नाराज़ हो गये क्या ? तीनो तो सेलिना को गुमराह करने और अधिक बोल्डनेस दिखाने को उकसाने का मौका मिल गया था. सोनी- देखो अभी तक तुमहरि आक्टिंग बेहद साधारण ही थी. थोड़ा बोल्डनेस लाओ बेबी...बोल्डनेस. बशु- बिल्कुल....थोड़ा और ज़ोर लगाओ बेबी....तभी बात बनेगी. और ऐसे छुपा क्या रही हो. तुम तो बिल्कुल बिंदास हो जाओ......अगले आधे घंटे के लिए. और ना ना करने के अलावा भी तो कुछ डाइलॉग बोलो ना. ताकि लगे की तुम्हारा रेप सीन चल रहा है. सेलिना- ठीक है सर. अब मैं आपको शिकायत का मौका नही दूँगी. कमू- चलो ठीक है मैं आक्षन बोलता हू. सब तैय्यार........कीप रोलिंग.......आक्षन. यहा तीनो बूढो की थरक अब छलकने ही वाली थी. थोड़ी देर और हो जाती तो शायद उनके लंड खुद-ब-खुद अपना रस उगल देते. सेलिना का गोरा जिस्म उनके सामने दावत की मेज की तरह सज़ा था और तीनो भूखे भेड़ियो की तरह उस पर टूट पड़े थे. बशु ने सेलिना के दोनो हाथ पकड़ लिए और कमू ने पैर. सोनी तो पहले ही सेलिना की खुली हुई टाँगो के बीच खड़ा था. सोनी- साली हमसे नखरा करती है. क्या करने आई थी तू हिन्दुस्तान...आप्ने आशिक से चुदने...हमारी भी प्यास बुझा दे छमिया....एक बार की तो बात है.... ये कहते हुए सोनी बेचारी सेलिना की कमसिन शरीर पर झुक गया और यहा वाहा अपना बालो से भरे चेहरे से चूमने लगा. सेलिना ने भी डेयिलॉग मारा- छोड़ दो मुझे कुत्तो...मेरा बाय्फ्रेंड तुम्हे जिंदा नही छोड़ेगा....छोड़ दो....बचाओ सोनी थोड़ा पीछे हुआ और सेलिना के आध-नंगे मम्मो को अपने हाथो से दबाने लगा. फिर उसने दोनो बूब्स को बिकिनी के कप सरका कर आज़ाद कर दिया. सेलिना ने फिर डाइलॉग मारा- बचाओ मुझे....कोई है...हेल्प.... सेलिना के बीच बीच मे डाइलॉग बोलने से तीनो की थरक और भड़क जाती और लंड फुफ्कारने लगते. अब सोनी ने सेलिना के दोनो निपल पकड़ लिए और उन्हे बुरी तरह मसल्ने लगा. सेलिना बुरी तरह बिदक गयी. सेलिना- आआआआआआईयईईईईईईईईईईईईययययययययययईईईईई.......छोड़ दो मुझे...भगवान के लिए.......... सोनी ने उसके निपल छोड़ दिए और उसकी ड्रेस की डोरी आगे से खोल दी. फिर दोनो स्ट्रॅप पकड़ कर ज़ोर खीच दिए. हर बढ़ते पल के साथ पाँचो के दिल की धड़कने भी बढ़ती जा रही थी. हालाँकि सब्केदिल धड़कने के कारण अलग अलग थे. खाट.....खाट.......खाट ........... करके उसकी ड्रेस 2 भागो मे फट गयी. सेलिना के शरीर काथोड़ा बहुत छुपा हुआ हिस्सा भी उजागर हो गया. सेलिना- सर ये क्या... बशु- बेबी ये रेप सीन ऐसे ही शूट होता है...ज़्यादा वल्गर हिस्सो को बाद मे एडिट कर देते है. और तुम सीन चलने दो बहुत अच्छा कर रही हो. अब डिस्टर्ब मत करना. सेलिना का मूह फिर बंद हो गया. बेचारी ने कभी रेप सीन की क्या नॉर्मल सेक्स सीन की भी शूटिंग नही देखी थी. जैसा इन तीनो ने गाइड किया था वैसा ही मानना सेलिना की मजबूरी थी. इधर सेलिना की चूत के बॉल भी दिखने लगे थे. सोनी सेलिना के गोरे चिकने जिस्म पर हाथ फिराने लगा. थोड़ी ही देर उसका हाथ सेलिना की झांतो तक पहुच गये. सोनी ने एक बार फिर सेलिना की चिथड़े हो चुकी ड्रेस को पकड़ा और ज़ोरसे सेलिना के शरीर से अलग कर दिया. अब सेलिना की चूत की फांके भी बालो के बीच मे से झाँकने लगी थी. सेलिना की टाँगे पकड़ कर नीचे बैठा कमू अपने सामने सेलिना की सुंदर चूत को देख कर खुद को रोक नही पाया और उसकी चूत पर अपना मूह लगा कर उसमे अपनी जीभ यहा वाहा फिराने लगा. क्रमशः.........................

Comments