तोहफा-प्यार की अनोखी दासता....- Xstoryhindi

कमरे में रखे रेडियो पर हलकी आवाज में गाना गूंज रहा था.
वर्कशॉप खतम हो गयी थी पर वो दोनों हमेशा की तरह वहीँ बैठे बाते कर रहे थे.
"तो तुमने मुझे बताया क्यों नहीं के तुम बी.कॉम. तक पढ़े हो?" उसने शिकायत करते हुए पूछा.
"तो क्या हुवा अभी बता रहा हू."समीर ने कहा.
"तो एक्सिडंट कब हुवा तुम्हारा?" उसने पूछा
"फायनल यिअर में एक्जाम से जस्ट पहले.आखे जाने का अफ़सोस जो है सो है उससे बड़ा अफ़सोस ये है के बी.कॉम. पास नहीं कर सका.थोडा बाद में हो जाता तो जिस डिग्री के लिए इतनी
मेहनत की थी वो फायनल यिअर में न छोडनी पड़ती." वो हस्ते हुए बोला.
"शट अप ..इट्स नॉट फन्नी..."उसने अब भी शिकायत करते हुए कहा.
"इट्स ओके...मुझे माफ कर दो.अच्छा बताओ आज वर्कशॉप में क्या सिखा." लड़के ने पूछा.
"हमें टायपिंग करना सिखा रहे है उस स्पेशल टायपिंग मशीन पर जो अन्धो के लिए बनी है.पर मई ये पूछती हू की अगर हने टायपिंग सीख भी ली तो मुझे पता कैसे चलेगा के मैंने कोई गलती नहीं की है क्योकि मै तो वो देख ही नहीं सकती.”उसने कहा.
पिचले दो साल से वो दोनों वर्कशॉप में आते थे जिसका नाम था “साईट फॉर ब्लायिंड्स”.उस वर्कशॉप में अंध लोगो को तरह तरह के काम सिखाए जाते थे.
“तो कुछ सुनाओ ना.”लड़की बोली
“हम्....तुजसे दूर जिधर जाऊ मै....चलू दो कदम और ठहर जाऊ मै...दुनिया खफा रहे तो परवाह नहीं कोई ...तू खफा हो तो मर जाऊ मै...”लड़का बोला.
“क्या खूब लिखते हो तुम.तुम्हे तो राईटर होना चाहिए.”
“सोचूंगा” वो बात टालते हुए बोला.
“जानते हो अगर मेरी आखें होती तो सबसे पहला काम मै क्या करती?”
“क्या?”
“तुम से शादी.” कमरे में थोड़ी देर शांति छा गयी.
“हां,क्यों ना हम शादी कर ले,हाल फ़िलहाल में.” लड़का सीरिअस होते बोला.
“समीर हम दोनों देख पाने से मजबूर है.और दो कमजोर लोग मिलकर एक मजबूत घर की बुनियाद नहीं रख सकते.” लड़की ने समीर से कहा.
“मतलब अगर हम दोनों में से कोई भी देख सकता तो तुम मुझसे शादी कर लेती.?”समीर बोला
“कोई भी नहीं,मै.मै उस शादी के ख्वाब को सच होते हुए,अपने रूबरू देखना चाहती हू.अपनी आखो से.”
“तो ठीक है.”समीर ने कहा.
“क्या हमारे ख्वाब कभी सच होंगे समीर.क्या हम कभी देख पाएंगे.”लड़की बोली.
“डोन्ट वरी.ऐसा होगा.पहले तुम दुनिया देखोगी और उसके बाद मै,पर देखेंगे जरुर.”


“मुझे डर लग रहा है समीर.”
“चिंता मत करो.सब ठीक होगा.ये बहुत बड़ा अस्पताल है और यहाँ अक्सर आय ट्रांसप्लांट ऑपरेशन होते है.”
“कुछ गलत हो गया तो.”
“कुछ नहीं होगा.और थोड़े ही दिनों में तुम सबकुछ देख सकोगी.”लड़का बोला.
“मुझे अब भी यही लगता है की तुम्हे ये आखें अपने चहरे पर ट्रांसप्लांट करनी चाहिए थी.इतने बरसो में एक डोनर मिला तुम्हे,और वो भी तूमने अपने बजाय मेरा नाम से दाखिल करवाया.” लड़की बोली.
“मैंने तुम्हारा नाम इसलिए डाला क्योंकि अगला डोनर मिलने तक तुम मेरे साथ शादी के लिए लटकती रहती.और अब तुम देख सकोगी और हम शादी कर लेंगे.और बाद में दूसरा डोनर मिलने पर मेरा भी काम हो जायेगा.”लड़का बोला.
“वो तो भला हो निशित का जो उसने मुझे बता दिया वर्ना तुम तो मुझे कुछ बताने वाले नहीं थे.”निशित अपने कुछ दोस्तों के साथ मिलकर ये वर्कशॉप चला रहा था.
“मै हमेशा तुम्हारे साथ रहूँगा.तुम फ़िक्र मत करो.”लड़के ने आखरी बार उसे मिलते हुए कहा.

“वो तुम से नहीं मिलना चाहती समीर.”निशित ने समीर से गुस्से में कहा.
“मुझे पता है यार.मुझे तो बस ये जानना है,की ऐसा क्या हुवा जो अचानक हर वादा टूट गया,और हर इरादा बदल गया.?”
“मैंने उस से बात की पर उसने कुछ भी नहीं कहा.पर उसकी माँ ने बताया की उनकी लड़की अपना फैसला ले चुकी है.और हम भी इस बात को जाने दे और उन्हें परेशां न करे.”निशित गुस्से से बोला.
“मुझे तो विश्वास ही नहीं हो रहा है की वो ऐसा भी कर सकती है.”समीर बोला.
“मै बताता हू की उसने ना क्यों कहा तुझे.क्योंकि उसे अब पता है की वो बहुत खूबसूरत है और तुम नहीं.वो खासी लंबी है और तुम एवरेज.अब तो वो अपने जैसा कोई ढूंढ रही होगी तुम्हारे जैसा कोई काला बदसूरत अंधा नहीं.”निशित बोले जा रहा था.
ट्रांसप्लांट सही रहा और वह देख सकती थी पर जैसा उसने सोचा था समीर वैसा नहीं निकला.जिस बात की उसे खुशी होनी चाहिए थी वो बात अब उसके लिए गम भरी खबर बन गयी.
कुछ दिन बाद लड़की ने उस से मिलना बंद कर दिया और शादी की बात से साफ़ मुकर गयी थी. “मुझे माफ कर दो समीर “आखिर में निशित ने कहा.

लड़की किताब के आखरी पेज पर थी और आज दस साल बाद वो गुजरा वक्त जैसे एक बार फिर उसके सामने आकर खड़ा हुवा था.पिचले पांच सालो में उसने यह कहानी कम से कम ५०० बार पढ़ चुकी थी.और १००० बार उस कंपनी को लेखक के बारे में पूछने के लिए फोन लगा चुकी थी.पर उसे यही जवाब मिलता की उनके पास लेखक के बारे में कोई जानकारी नहीं है.
अपने खयालो में उसने लडके का जो चेहरा देखा था जब हकीकत में वो चेहरा उसके सामने आया तो यह वो बर्दाश्त ना कर सकी.उस चेहरे की काली रंगत और वो बंद अंदर दबी आखें इस बात को मानने को तैयार नहीं थी के इस शख्स के साथ वो शादी करना चाहती है.
पर ना ही वो सच बताने की हिम्मत कर सकी.बस बेरुखी से अपना चेहरा दूसरी तरफ घुमा लिया.और समीर से मिलना बंद कर दिया.
और फिर एक दिन उसे रास्ते में निशित मिल गया.उसने उसे बताया था के समीर का किसी को कोई अता पता नहीं है,वो कहा गया,कोई नहीं जनता,खुद निशित भी नहीं.
“क्या खूब लिखते हो तुम.तुम्हे तो राईटर होना चाहिए.”
समीर को कही अपनी बात उसे आज भी याद थी और उसकी अपनी कहानी एक किताब के रूप में उसके हाथ में थी.
“वो तो कभी अंधा था ही नहीं.वो वर्कशॉप हम दोनों मिल के चला रहे थे.ये जो आखें लेके घूम रही होना ये उसकी अपनी आखें है.तुम्हे ये इसलिए दी थी टटकी तुम उससे शादी कर लो.कमाल की बात है न,तुम उसे चाहती थी क्योकि तुम उसे देख नहीं पाती थी.और उसका बड़प्पन देखो के वो तुमको अपने हिस्से की रौशनी देकर खुद अँधेरे में खो गया और एक बार भी जताया तक नहीं” निशित की यह बात आज भी उसके कानो में गूंज रही थी.

Comments