हाय फ्रेंड्स कैसे हो आप सभी लोग ? मुझे उम्मीद है आप सभी लोग ठीक ही होगे | आप सभी लोग चुदाई का मज़ा तो ले ही रहे होगे और तब तक चुदाई करते होगे जब तक लडकी की चीख न निकाल देते हो | मैं आशा करता हूँ की आप सभी लोग ऐसे ही खुश रहें और सबको खुश रखे | आज मैं आप लोगो के सामने अपनी एक कहानी को लेकर आया हूँ | ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची कहानी |


मैं कहानी प्रस्तुत करने से पहले अपने बारे में बता देता हूँ | मेरा नाम दिवाकर रस्तोगी है | मेरी उम्र 29 साल है | मैं रहने वाला चंडीगढ़ का हूँ | मेरी पढाई पूरी हो गयी है और मैं एक कम्पनी में सॉफ्टवेर इंजिनियर हूँ | मेरी हाईट 6 फुट 2 इंच है | मेरे लंड का साइज़ 6 इंच लम्बा और मोटा 2 इंच है | मैं दिखने में काफी गोरा हूँ और मेरी बॉडी भी ठीक ठाक है जिससे मैं दिखने में भी स्मार्ट लगता हूँ | आज जो मैं कहानी बताने जा रहा हूँ मुझे उम्मीद है की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आयेगी और इस कहानी को पढने में आप लोगो को मज़ा भी आयेगा | मैं आप लोगो का ज्यादा समय न लेते हुए सीधे अपनी कहानी पर आता हूँ |
ये कहानी अभी कुछ दिन पहले की है जब मैं एक कम्पनी में जॉब करता था | मैं जिस कम्पनी में काम करता हूँ उस कम्पनी में लडकियाँ भी काम करती है | कम्पनी में एक से एक मस्त लड़की जॉब करती हैं पर साली कोई भाव ही नही देती है इसलिए मैं रोज किसी न किसी लड़की पर लाइन मारा करता था | पर जिस लड़की को पर्पोजे करो उस लड़की का बॉयफ्रेंड पहले से होगा या ये बोलेगी नही जी मैं आप से दोस्ती नही कर सकती मुझे तो घर से बाहर किसी से बात करना भी मना है | ये बाते सुन सुन कर मैंने अब लड़कियों को पटाना ही छोड़ दिया है और अब मैं सिर्फ अपने काम पर ही ध्यान देता हूँ |

किसी भी लड़की को अपनी लाइफ में नही आने देने देता हूँ और मैं ऐसे ही खुश हूँ | एक दिन की बात है जब मेरे बॉस ने मुझे शूटिंग के काम से गोवा जाने के लिए कहा तो मैंने भी हाँ कह दिए | उसके बाद बॉस ने बताया की तुम्हारे साथ 8वे फ्लोर की एक लड़की भी जाएगी और वहां तुम्हे 7 दिन का टूर है वहां तुम्हे 7 दिन घूमना है और शूटिंग करनी है | फिर मैं ये सोचने लगा की लड़की अच्छी न हो क्यकि मैंने अब सोचा लिया था की कोई लड़की को अपनी लाइफ में नही आने देना है इसलिए मैंने उसे कॉल भी नही की और फिर दुसरे दिन मुझे एक कॉल आई |
मैं – हेल्लो कौन ?
वो – आप दिवाकर हो ?
मैं – हाँ | आप कौन हो ?
वो – मेरा नाम दीपाली है और मुझे आप के साथ 7 दिन के टूर पर जाना है तो मैंने सोचा की आप से बात कर लेती हूँ और मेरा नम्बर आपके पास नही था क्या?
मैं – था पर क्यू ?
वो – लड़की का नम्बर पाते ही लड़के लोग कॉल करने लगते हैं पर आपने क्यू नही की कॉल ?
मैं – मुझे लड़कियों से बात करना पसंद नही है इसीलिए नही किया था | ओके ठीक है तुम कल तैयार रहना सुबह ही निकलना है |
वो – ठीक है तैयार हो जाउंगी |
फिर मैंने खुद ही फ़ोन कट कर दिया और खाना खाकर सो गया | जब मैं सुबह उठा तो देखा की दीपाली के 2 मिसकॉल पड़ी थी और एक मैसेज था की किस टाइम घर से निकलोगे | तब मैंने उसे एक मैसेज किया और मैसेज में लिखा की 11 बजे के बाद | फिर मैं नहा कर तैयार हो गया और नास्ता किया उसके बाद मैंने अपने कपडे बेग में पैक किया और उसको एक मैसेज किया की मैं निकल रहा हूँ | तब 2 मिनट बाद मैसेज आया की ओके मैं भी निकल रही हूँ | फिर मैं घर से निकल गया और जब मैं बस स्टेंड पर पंहुचा तब मैंने उसे मैसेज किया और पूछा कहाँ हो तुम तब उसने कहा मैं तो बस स्टेंड पर ही हूँ |

मैंने उसे देखा था नही कभी और मुझे ये भी नही पता था वो किसी दिखती है उसने मुझे कॉल की और बोली की तुम किस जगह पर खड़े हो तब मैंने उसे अपनी जगह बताई और मुझे एक लड़की सामने दिखी वो दिखने में मस्त लग रही थी | तब मैंने सोचा यही तो नही है और फिर उसने मुझसे पूछा की तुमने किस कलर के कपड़े पहने है तो मैंने उसे अपने कपड़े का कलर बताया तो वो ही लड़की मेरे पास चल कर आई और बोली हाय मैं दीपाली उसको देखकर मेरे तो होश ही उड़ गए | वो दिखने में इतनी गोरी थी और बहुत सुन्दर भी मैं ये सोच रहा था की ये उसी कम्पनी में जॉब करती है जिस कम्पनी में मैं करता हूँ  और ये मुझे आज तक दिखी ही नही |
उसके बाद हम बस में बैठ गये और कुछ ही देर में बस भी चल पड़ी तो मैंने भी हेडफोन लगा लिया और गाने सुनने लगा | तब वो मुझसे बोली एक बात पूछो आप से तो मैंने कहा पूछो तब वो बोली आपका स्भाव अच्छा है | मैंने कहा वो क्यू तो वो बोली की आपके पर इतनी सुन्दर लड़की बैठी है और मुझसे बात करने के वजह आप गाने सुन रहे हो | तब मैंने उसे बताया की मुझे लड़कियों से बात करना नही अच्छा लगता है इसीलिए मैंने आप को अभी तक कॉल नही की थी | हम ऐसे ही बाते करते रहे फिर सो गए |
जब मेरी आंख खोली तो मैंने देखा की हम गोवा पहुचने वाले ही थे | फिर गोवा पहुचने के बाद हम दोनों लोग होटल गए | फिर उसके दुसरे दिन हम घुमने गए और उस दिन मैंने कुछ विडियो शूट किये | इस तरह से मैं और दीपाली एक साथ में काम कर रहे थे | इस तरह से 3 दिन निकल गए पता ही नही चले दीपाली के साथ दिन का तो पता ही नही चलता था | फिर हम दोनों लोग एक रेस्टोरेंट से खाना खाकर अपने रूम में गए तो वो बेड पर लेट गयी और मैं सोफे पर लेट गया और सो गया |

जब मैं सुबह उठा तो देखा की वो मुझसे पहले उठ गयी है और वो मेरे लिए चाय भी मंगा ली हैं मैं चाय पिने के बाद तैयार हो गया | फिर हम घुमने चले गए और उस दिन मैं और दीपाली बीच पर घुमने गए और वहां पे हमने शूटिंग की और वो मुझे पसंद भी करने लगी थी | मुझे भी उससे प्यार हो गया था मुझे पता ही नही चला की मुझे दीपाली से कब प्यार हो गया और इस तरह से आज 5 दिन हो गए थे | फिर रात हो गयी तो मैं और दीपाली अपने होटल के रूम में जाके खाना खाने के बाद में सोफे पर लेटने के लिए जा ही रहा था की उसने मुझसे कहा यहीं लेट जाओ तो मैंने उससे कहा नही वहां नही लेट सकता अगर कुछ गलत हो गया तो |
तब वो मेरे पास आकर मेरी होठो पर किस करके बोली इससे ज्यादा कुछ नही होगा आओ लेट जाओ | तब मैं बोला इससे ज्यादा भी हो सकता है | वो बोली ठीक  है जानू ओके लेट जाओ तब मैं जाके उसके साथ लेट गया | वो अपनी कमर मुझे दिखा रही थी तो मुझे अपने आप पर कन्ट्रोल नही हो रहा था तो मैं अपने हाथ को एक बार उसके कमर तक ले गया और फिर वापस कर लिया | तब वो मेरे हाथ को पकड कर अपनी कमर पर रख कर बोली की इतना मौका अगर किसी और लड़के को देती तो वो मेरे साथ सब कुछ करता |

 फिर वो मेरी तरफ घूम गयी तो मैंने भी बिना डरे उसकी होठो पर अपनी होठो रख दी और उसकी कोमल होठो को चूसने लगा | वो भी मेरी होठो को चूसने लगी | मैं उसकी होठो को चूसने के साथ में उसके बूब्स को कपड़े के अन्दर हाथ को डाल कर दबाने लगा था | उसके बूब्स गोल चिकने और मस्त थे मैं उसकी होठो को ऐसे ही 5 मिनट तक चूसता रहा | फिर मैंने उसके कपडे निकाल दिए और वो मेरे सामने एकदम नंगी हो गयी क्यकि उसने ब्रा और पेंटी नही पहनी थी |

 मैं उसके बूब्स को मुंह में रख कर जोर जोर से चूसने लगा | उसे बूब्स बहुत चिकने थे और मस्त थे | मैं उसके निप्पल को मुंह से पकड कर खीच खीच कर चूस रहा था | मैं उसके बूब्स को ऐसे ही 10 मिनट तक चूसता रहा | फिर मैंने अपने कपड़े निकाल कर अपने लंड को उसके हाथ में पकड़ा दिया तो वो मेरे लंड को पकड कर हिलाती हुई मुंह में रख कर चूसने लगी | मैं अपने लंड को उसके मुंह में अन्दर बाहर करते हुए चूसने लगा | वो मेरे लंड को ऐसे ही 5 मिनट तक चूसती रही फिर मैंने उसकी टांगो को फैला कर उसकी चूत में अपने मुंह को घुसा कर उसकी चूत को चाटने लगा तो उसके मुंह से ऊई उई… हाँ हाँ हाँ.. सी सी सी.. ऊऊउ ईईईईई आआआआ… की सिसिकियाँ लेने लगी |

 मैं उसकी चूत में अपनी ऊँगली को भी घुसा कर जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगा तो वो मचल गयी और बोली अब इतना भी न तड़पाओ तब मैंने अपने लंड को उसकी चूत के ऊपर रख दिया उसकी चूत गीली थी जिससे एक ही धक्के में चूत में पूरा लंड घुस गया | मैं उसकी चूत में लंड को जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगा जिससे उसके मुंह में उई उई उई अहह ऊह्ह ओह्ह उई माँ.. उई माँ .. उई उई माँ … की आवाजे करने लगी | ये आवाजे सुनकर में उसकी चूत में और तेज धक्को के साथ उसको चोदने लगा |

वो उई उई हाँ हाँ… हु हु हु हु… सी सी सी.. उई मई उई मई.. करती हुई चुदने लगी | मैं उसको ऐसे ही जोरदर धक्को के साथ उसको 15 मिनट तक मस्त चुदाई की फिर मैं झड गया | मैंने उसकी इतनी भयानक चुदाई की थी की दीपाली को चलने में भी परेशानी हो रही थी | फिर हम दोनों 7 दिन बाद वापस चले आये | मुझे उम्मीद है की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आई होगी | कहानी पढने के लिए धन्यवाद |

Comments