Showing posts with label force sex. Show all posts
Showing posts with label force sex. Show all posts

Thursday

माँ कसम चोदने नहीं दूंगा | xstoryhindi

        माँ कसम चोदने नहीं दूंगा | xstoryhindi

हाँ दोस्तो आज मैं तुम लोगो को सबसे अनोखी कहानी बताने जा रहा हूँ | यह कहनी को पढ़ कर तुम लोग हैरान हो जाओगे और इस कहानी को पढने के बाद तुम लोगो का लंड ऐसा खड़ा होगा की तुम लोग चोदने के लिए तरस जाओगे और यह कहनी पड़कर तुम लोगो को बहुत मजा आएगा |
माँ कसम चोदने नहीं दूंगा | xstoryhindi

दोस्तों मेरा नाम रितिक है और मैं कटनी का रहने वाला हूँ और मेरी उम्र 25 साल है | दोस्तों मेरा एक दोस्त है उसका नाम सिब्बू है | उसकी उम्र 26 साल है | वो मेरे से एक साल बड़ा है | हम दोनों अच्छे दोस्त है हम दोनों बहुत लड़की बाजी करते है | दोस्तों पिछले साल की बात है मैं और सिब्बू केला लेने जा रहे थे तो जाते समय सिब्बू रस्ते पर बहुत लड़की बाजी कर रहा था और मैं उसे मना कर रहा था कि भाई अभी मत कर अपन केला लेने के बाद लड़की बाजी करेंगे और फिर सिब्बू बोलने लगा कि अच्छा ठीक है |

 चल पहले केला लेकर घर पर देके आते है फिर लड़की बाजी करेंगे और अच्छी से लड़की को पटाकर बहुत चोदेंगे अपन दोनों | फिर मैंने सिब्बू से कहा नहीं भाई आज मैं नही चोदुंगा तू चोद ले आज | फिर उसके बाद हम दोनों बाइक लेकर लड़की बाजी करने निकल पड़े | फिर उसके बाद रस्ते में बहुत माल मिलते है मस्त मस्त लेकिन सिब्बू को कोई भी माल पसंद नहीं आया | सिब्बू एक मस्त माल की तलाश में था जिसको चोदने में बहुत मजा आये और फिर थोड़ी आगे जाते ही सिब्बू को एक मस्त माल दिख गयी | वो माल इतनी मस्त थी कि मैं भी उसे देख कर पागल हो गया था और उसे देख कर मेरा लंड भी खड़ा हो गया था |

 फिर उसके बाद सिब्बू रस्ते पर ही उस लड़की को छेड़ने लगा और उस लड़की से कहने लगा कि तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो तुम बहुत ही ज्यादा सेक्सी हो मैं तुमको चोदना चाहता हूँ | तुझे जो चाहिए मैं लाकर दूंगा लेकिन तुम मना मत करना चुदने के लिए | फिर वो लड़की सिब्बू की बात मान गयी और चुदने के लिए तैयार हो गयी | सिब्बू बहुत खुश हो गया | फिर सिब्बू उससे उसका नाम पूछने लगा कि तुम्हारा नाम क्या है ? तो वो लड़की ने अपना नाम नेहा बताया |   आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है

नेहा के साथ एक लड़की और थी फिर मैंने भी उस लड़की से उसका नाम पूछा उसने अपना नाम सुभी बताया | सुभी भी बहुत ही सेक्सी थी मुझे भी चोदने का मन कर रहा था | तो फिर मैंने भी सुभी से कहा सुभी मैं तुमको चोदना चाहता हूँ तुम मुझे बहुत अच्छी लगी | तो सुभी भी मान जाती है और मुझसे चुदने के लिए हाँ कह देती है | उसके बाद हम लोगो का एक घर खाली पड़ा हुआ था वह कोई नहीं रहता था | तो हम दोनों नेहा और सुभी को अपने खाली घर पर ले गए और वहाँ कोई नहीं आता था | उसके बाद जब हम घर पहुँच गए तब कमरे में सिब्बू अपनी नेहा को चोदने के लिए ले गया और एक कमरे में मैं अपनी सुभी को चोदने के लिए ले गया |

 सिब्बू तो कमरे के अंदर जाते साथ नेहा को चोदने लगा वो नेहा को बहुत चोदता है | नेहा की चिल्लाने की आवाज़ मेरे कमरे तक आ रही थी आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः | 

मैं तो सुभी को आराम से ही चोद रहा था | सबसे पहले मैंने सुभी को किस किया क्योकि सुभी के होंठ बहुत मस्त थे | सुभी को मैं पलंग में लेटा कर बहुत किस कर रहा था और उसके मस्त बड़े बड़े दूध को दबा रहा था | सुभी आआह्ह्ह्ह आःह्ह ऊउह्ह्ह ऊउह्ह्ह आःह्ह ऊउह्ह्ह करने लगी और फिर मैंने सुभी के कपडे उतार दिए और उसके मस्त मस्त दूध पीने लगा | सुभी के दूध मस्त लग रहे थे और पीने में भी बहुत मजा आ रहा था | फिर मैंने सुभी की चूत में अपना लंड डालने लगा और उसे चोदने लगा | सुभी आःह्ह आःह्ह ऊउह्ह्ह ऊउह्ह्ह आःह्ह ऊउह्ह्ह करने लगी और मुझे किस करने लगी | फिर मैंने सुभी की टांग उठाकर अपने कंधे पर रखी और अपना लंड उसकी चूत में डाल के बहुत चोदा |   आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है

सुभी फिर मना करने लगी कि बस करो अब | और जोर जोर से आह्ह्ह्ह आह्ह्हह्ह ऊह्ह्ह्हह्ह ऊह्ह्ह्हह आअह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह ऊउह्ह्ह्ह ऊउह्ह्ह्ह करने लगी लेकिन मुझे तो उसे चोदने में बहुत मजा आ रहा था | मैं सुभी को जम के चोद रहा था और सुभी आह्ह आह्ह ऊउह्ह ऊह्ह करने में लगी हुई थी | फिर चोदने के बाद मैंने सुभी से पुछा मजा आया चुदने में तो सुभी कहने लगी कि बहुत मजा आया तुमसे चुदने में |

 वो मुझसे कहने लगी कि तुम जब भी मुझे बुलाओगे चोदने के लिए मैं तुमसे चुदने जरुर आउंगी | मैं सुभी को चोद कर कमरे से बाहर निकल आया लेकिन सिब्बू तो नेहा को चोद ही रहा था | नेहा की बहुत आवाज़ आ रही थी आआअह्ह्ह आःह्ह ऊउह्ह्ह ऊह्ह्ह्हह आह्ह्ह आह्ह्ह ऊह्ह्ह्ह ऊह्ह्ह | फिर मैंने सिब्बू से बोला कि सिब्बू बस कर टाइम हो गया अब कितना चोदेगा नेहा को तू अब बस कर | लेकिन फिर भी सिब्बू नहीं मान रहा था और कहने लगा अभी नहीं मैं अभी नेहा को बहुत चोदुंगा मुझे बहुत मजा अ रहा है नेहा को चोदने में और नेहा को भी बहुत मजा आ रहा है चुदने में | इसलिए अभी और चोदुंगा में नेहा को |

 और फिर सिब्बू मुझसे बोलने लगा की तू इतने जल्दी सुभी को चोद लिया | फिर मैंने उसे कहा हाँ मैंने सुभी को चोद लिया अब तू जल्दी नेहा को चोद और चल घर टाइम हो रहा है | फिर सिब्बू ने मुझसे कहा कि मेरे को टाइम लगेगा तू एक बार और सुभी को चोद ले जब तक अच्छे से | फिर उसके बाद मैं फिर से सुभी को कमरे में ले गया और सुभी को बहुत चोदा और हद कर दी चोद चोद मचाके मैंने चोदम चुदाई कर डाली | 

सुभी बस आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करती रह गयी मेरी चुदाई के बाद |

अब हम लोग थक गए थे और घर जाके सीधा सो गए | उसके बाद अगले दिन फिर हमारी कड़ाई की इच्छा होने लगी और फिर हमे नेहा और सुभी की याद सताने लगी | मैंने सिब्बू से कहा चल यार बड्डा फिर से उन दोनों को बुलाते और रंडियों की मैय्या चोद देते हैं | सिब्बू ने कहा ठीक है बुला ले पर इस बार मैं सुभी को चोदुंगा और तू नेहा को | मैंने कहा ठीक है मज़ा आएगा बदल बदल के चोदने में |

 हमलोग गए उनके घर के पास और उनको गाड़ी पे बैठा के ले आए अपने अड्डे पे | हमलोगों ने बिना टाइम लगाये कमरे में प्रवेश किया और चुदाई चालु कर दी | सिब्बू तो कुत्तों की तरह चोद रहा था और सुभी खूब आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रही थी | 

मैंने जब नेहा को चोदना चालु किया तो नेहा ने कहा यार पहले मेरी चूत चाटो | मैंने कहा ठीक है और मैं उसकी चूत चाटने लगा और वो सिस्कारियां भरने लगी | मैंने फटाफट अपना लंड उसके मुह में दिया थोड़ी देर बाद और उसने चूस के मेरा सारा माल बाहर निकाल दिया | फिर मैंने नेहा के दूध चूसे और लंड वापस खड़ा करके उसकी चूत में डाल दिया | थोड़ी देर बाद यो भी आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगी और मज़े लेने लगी |

loading...
मैंने उससे पुछा क्यूँ किसकी चुदाई में ज्यादा दम है | उसने कहा सिब्बू की चुदाई में क्यूंकि उसका लंड बड़ा है और बच्चेदानी पे मार करता है | मैंने कहा मादरचोद मेरे मुह पे मेरी बेईज्ज़ती | मैंने जम के चोदा उसको और वो आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करने लगी | जब हम सब बाहर आए तो दोनों रंडियां बोलने लगी सिब्बू तुम्हरे लंड के क्या कहने | पर में भी खुश था चूत तो मिल रही थी इसलिए कोई दिक्कत नहीं |
Read More
b:if cond='data:view.isPost'>                                                                       

स्कूल में चुदवाते हुए पकड़ी गयी | Xstoryhindi

स्कूल में चुदवाते हुए पकड़ी गयी | Xstoryhindi

हेल्लों फ्रेंड्स, मेरा नाम रूचि है | मैं कोलकाता की रहने वाली हूँ | मैं दिखने में गोरी हूँ, और मेरा फिगर ऐसा है कि अच्छे अच्छे लौंडो का लंड खड़ा हो जाता है मुझे देख कर | मेरे दूध बड़े हैं और गांड चौड़ी है साथ में पतली कमर है | मैं स्कूल में कक्षा 11वी में हूँ | दोस्तों, वैसे तो मैं बिगड़ी हुई हूँ, और मैं 11वी कक्षा में आते आते कई लंड अपनी चूत में ले चुकी हूँ | मुझे बड़े और मॉटे लंड वाले लड़के हो या आदमी बहुत पसदं है | चलिए मैं आप लोगो को ज्यादा नहीं पकाऊंगी और सीधा कहानी पे आती हूँ |  आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है
स्कूल में चुदवाते हुए पकड़ी गयी | Xstoryhindi

ये घटना तब कि है जब मैं कक्षा 9वी में थी | तब ही मेरी पहली चुदाई हुई थी पर मैं अपनी चूत में कुछ न कुछ डालती रहती थी | मेरी चुदाई मेरे बॉयफ्रेंड के दोस्त ने की थी | मेरा एक बॉयफ्रेंड था जिसका नाम भार्गव था | वो मुझसे बहुत प्यार करता था, पर मैं नहीं करती थी | क्यूंकि उसके पास पैसा रहता था इसलिए मैं उससे पटी थी | एक दिन उसने मुझसे कहा कि मैं तुम्हे चोदना चाहता हूँ तो मैंने कहा चोदेगा ? तो उसने कहा कि स्कूल की छत पर चलते हैं | मैंने बोला ठीक है, गेम्स के पीरियड मे गेम न खेल के हम अब एडल्ट गेम खेलने वाले थे | जैसा प्लान हुआ था वैसा ही हुआ | मैं स्कूल की छत पर चली गयी बाकि सारे बच्चे खेलने गये थे | 

5 मिनट के बाद भार्गव आया और मुझे अपनी बांहों में भर कर किस करने लगा था | तभी मेरी नजर रोबिन पर पड़ी तो मैं भार्गव से अलग हुई और उसे कहा कि ये यहाँ क्या कर रहा है ? तो भार्गव ने जवाब दिया कि वो ये देखने के लिए यहाँ आया है कि कोई हमे चुदाई करते देख न ले | तो मैंने कहा ठीक है और भार्गव फिर मेरे होंठो में अपने होंठ रख कर किस करने लगा | मैं भी उसका साथ देने लगी | वो बहुत अच्छी किसिंग कर रहा था और मैं भी मदहोश हुए जा रही थी |   आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है

फिर उसने मेरी शर्ट खोली और ब्रा ऊपर कर के मेरे दूध पीने लगा | मझे अच्छा लग रहा था उसका ऐसा करना जिस वजह से मैं अहहहः आआऊँ ऊनंह ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहहाआअ अहाआअ हहहाआअ अहहहा ऊउंह ऊम्म्म्ह ऊउम्म्म उऊंन्न अहहहाआअ आआहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह आहाआ हहाआअ करते हुए सिस्कारिया भर रही थी |( ये सब रोबिन के सामने हो रहा था ) वो बहुत जोर जोर से मेरे दूध को पी रहा था और मैं अहहहः आआऊँ ऊनंह ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहहाआअ अहाआअ हहहाआअ अहहहा ऊउंह ऊम्म्म्ह ऊउम्म्म उऊंन्न अहहहाआअ आआहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह आहाआ हहाआअ कर रही थी |

दूध पीने के बाद मैंने अपनी पेंटी उतारी और उसे अपनी चूत चाटने के इशारा की | तो वो झट से मेरी चूत सहलाते हुए उसे चाटने लगा और मैं अहहहः आआऊँ ऊनंह ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहहाआअ अहाआअ हहहाआअ अहहहा ऊउंह ऊम्म्म्ह ऊउम्म्म उऊंन्न अहहहाआअ आआहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह आहाआ हहाआअ करने लगी | वो बहुत अच्छे से मेरी चूत को चाटने लगा था तभी मेरी नजर रोबिन पर पड़ी | शायद वो भी हमारी चुदाई देख कर गरम हो चुका था ओर अपना लंड पेन्ट से निकाल कर मुठ मार रहा था | मैं उसका लंड देख कर ये सोच रही थी कि काश ऐसा लंड भार्गव का भी हो | 

उसने मेरी चूत बहुत अच्छे से चाटा | फिर मैंने उसका लंड उसके पेन्ट से निकाला तो मैंने बहुत गुस्सा हो गयी | उसका लंड 5 इंच का ही था और वो भी खड़ा था उसका लंड | मैंने उसे हटाते हुए कहा कि अबे तेरा लंड तो बच्चो वाला है मैं एसा लंड अपनी चूत में नहीं डालूंगी | तो वो बहुत मिन्नतें करने लगा पर मैं नहीं मानने वाली थी | मैं बहुत गरम हो गयी थी तो मैंने रोबिन से कहा रोबिन मेरी चूत तू मार ले तेरा लंड अच्छा है | इस बच्चे के जैसे लंड वाले से मैं नहीं चुदवाउंगी | फिर भार्गव रोबिन की जगह चला गया और मैं रोबिन का लंड मुंह में ले कर चूसने लगी | रोबिन का लंड सच में बहुत अच्छा था |

 मुझे उसका लंड पीने में बहुत मजा आ रहा था और वो अहहहः आआऊँ ऊनंह ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहहाआअ अहाआअ हहहाआअ अहहहा ऊउंह ऊम्म्म्ह ऊउम्म्म उऊंन्न अहहहाआअ आआहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह आहाआ हहाआअ कर रहा था | भार्गव वहीँ खड़ा हो कर मुठ मारने लगा | फिर रोबिन ने मुझे वहीँ पर लेटाया और अपना लंड मेरी चूत में डाल कर चोदने लगा |

वो बहुत शानदार चुदाई कर रहा था मेरी चूत की | मैं जोर जोर से अहहहः आआऊँ ऊनंह ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहहाआअ अहाआअ हहहाआअ अहहहा ऊउंह ऊम्म्म्ह ऊउम्म्म उऊंन्न अहहहाआअ आआहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह आहाआ हहाआअ कर रही थी और वो जोर जोर से मेरी चूत में झटके मार मार के चोद रहा था | फिर उसने अपना माल मेरी चूत के ऊपर ही निकाल दिया था | मुझे भार्गव पर बहुत तरस आ रहा था पर मैं क्या करती उसका लंड मेरे हिसाब का नहीं था |  आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है

उसके बाद भार्गव और मेरी बात होना बंद हो चुकी थी | मैं अब रोबिन से चुदवाती थी क्यूंकि उसका लौड़ा बड़ा था | फिर एक दिन ऐसा हुआ कि मैं केमिस्ट्री में फैल हो गयी | और मैं अपना रिजल्ट का फैल का नहीं चाहती थी क्यूंकि मेरे पापा बहुत स्ट्रिक्ट थे और वो मेरी गांड तोड़ देते | इसी डर से मैं केमिस्ट्री वाले सर के पास गयी उनके लैब में | तो सर कुछ काम कर रहे थे तो मैं वेट करने लगी | 

फिर सर जब फ्री हुए तो उन्होंने कहा कि हाँ बेटा बोलो क्या हुआ ? स्कूल की तो छुट्टी हो चुकी है तुम अब तक घर नहीं गयी ? तो मैंने सर से कहा कि सर ! मुझे आपसे बात करनी है | तो सर ने जवाब दिया हाँ कहो क्या केहना है ? तो मैंने कहा कि सर मुझे बहुत कम नंबर मिले हैं आपके विषय में तो सर प्लीज मुझे पास कर दीजिये न | तो सर ने कहा कि बेटा ऐसा नहीं हो सकता है अब मैं कैसे बढ़ा सकता हूँ नंबर ? जैसा तुमने पेपर किया था वैसा ही तुम्हे परिणाम मिला है |  आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है

मैंने रोते हुए सर से कहा कि सर प्लीज मुझे पास कर दीजिये आप जो बोलेंगे मैं वो सब करने के लिए तैयार हूँ ? तब तक सर कि भी आँखे चमक गयी भले ही सर शादीशुदा थे पर मुझे अपने मार्क्स से मतलब था | तो सर ने मुझे अपना पास बुलाया और अपनी जांघ में बैठने का इशारा किया | तो मैं उनकी जांघ पर बैठ गयी और उनके कंधे में हाँथ रख लिया | सर भी गरम हो गये थे तो वो मेरे दूध दबाते हुए मुझे किस करने लगे |

 मैं भी सर का साथ किस करने में देने लगी और जोर जोर से किस करने लगी | फिर सर ने मेरे शर्ट के बटन खोले और मेरे ब्रा के ऊपर से ही मेरे दूध दबाने लगे | मैं भी मदहोश होने लगी | सर मेरे दूध दबाते जा रहे थे और फिर एक हाँथ से सर ने मेरे मार्क्स बढ़ा दिए और मैं पासिंग मार्क्स से पास हो चुकी थी | मैं बहुत खुश हो गयी और सर को अपने दूध निकाल के पीने के लिए कहा तो सर भी जोर जोर से मेरे दूध पीने लगे और मैं अहहहः आआऊँ ऊनंह ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहहाआअ अहाआअ हहहाआअ अहहहा ऊउंह ऊम्म्म्ह ऊउम्म्म उऊंन्न अहहहाआअ आआहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह आहाआ हहाआअ करने लगी थी |

कुछ देर सर ने मेरे दूध बहुत अच्छे से चूसे और फिर उन्होंने अपना लंड बाहर निकाला | मैं सर का लंड देख के चौंक गयी क्यूंकि उनका लंड बहुत बड़ा और मोटा था | फिर मैं उनके लंड को हिलाते हिलाते हुए चूसने लगी और सर अहहहः आआऊँ ऊनंह ऊनंह ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहहाआअ अहाआअ हहहाआअ अहहहा ऊउंह ऊम्म्म्ह ऊउम्म्म उऊंन्न अहहहाआअ आआहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह आहाआ हहाआअ कर रहे थे |

मैं सर का लंड बहुत जोर जोर से चूस रही थी कि तभी हमारे स्कूल के चौकीदार ने हमे ये सब करते हुए देख लिया | मेरी गांड फट गयी तो मैंने जोर जोर से रोते हुए उसके पास पंहुच गयी | मुझे कुछ भी कहने कि जरुरत नहीं थी सब कुछ वो रोने से समझ गया था | फिर उसने आवाज़ लगाते हुए पूरे स्टाफ को बुला लिए और सर को पुलिस के हवाले कर दिया गया |  आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है

loading...
 सब कुछ मेरे हाथ में था मैं चाहती तो सर को बचा सकती थी पर मैंने ऐसा कुछ न करना ही ठीक समझा | क्यूंकि अगर मैं उनको बचाती तो शायद मैं ही गलत हो जाती | इस वजह से सर को जेल हुई और उन्हें स्कूल से निकाल दिया गया था | फिर कुछ समय बाद खबर मिली कि उन्होंने आत्महत्या कर ली है पर अब क्या कर सकते हैं मुझे नंबर तो मिल गए |
Read More
b:if cond='data:view.isPost'>                                                                                   

Wednesday

रैगिंग में मेरा बलात्कार | xstoryhindi

रैगिंग में मेरा बलात्कार | xstoryhindi

लंड के मालिकों, मैं सबील हाजिर हूँ अपनी एक सेक्स कहानी लेकर | मैं एक 18 साल का लड़का हूँ और दिल्ली का रहने वाला हूँ | Hindi Sex Stories पर आकर सेक्स कहानियां पढना मेरा एक शौक है और मैं ये रोज करता हूँ | आज मैंने सोचा की क्यूँ न मैं भी अपनी कहानी सुनाऊं आप लोगों को जो अभी कुछ दिन पहले हुआ मेरे साथ | दोस्तों मेरी हाइट 5 फुट 2 इंच है और मेरी बॉडी अच्छी है |रैगिंग में मेरा बलात्कार | xstoryhindi  मेरा लंड बहुत बडा नही है और एक और बात बताना चाहूँगा मैं की मैंने कई बार गे पोर्न मूवीज देखि हैं और उन्हें देखकर मुझे कभी कभी मन करता है की क्यूँ न मैं भी एक बार अपनी गांड मरवा कर देखूं | खैर, अब सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ |
रैगिंग में मेरा बलात्कार | xstoryhindi

मैं 12वीं में पढ़ता था और फिर मैंने एक कॉलेज में एडमिशन लिया | ये मेरा पहला साल है | मैंने रहने के लिए कॉलेज का हॉस्टल लिया लेकिन मुझे नही पता था की मेरा ये करना मुझे इतना भारी पड़ जाएगा | कॉलेज स्टार्ट होने के 2 दिन मैं हॉस्टल गया और अपना सामान रखकर बाथरूम की तरफ जाने लगा | बाथरूम की तरफ जाने पर मैंने देखा की वहां तो रैगिंग चल रही है | मैं उलटे पाँव वापस आ गया | शायद मुझे किसी एक सीनियर ने देख लिया था | उसने आवाज दी लेकिन मैं रुका नही | उसे गुस्सा आ गया और वो मेरे पीछे आने लगा | मैंने चाल तेज कर दी लेकिन वो लम्बा चौड़ा था इसीलिए उसने मुझे पकड़ लिया | 

मैं छुड़ाने की कोशिश करने लगतो वो शायद और गुस्सा हो गया | उसने मुझे पकड़ा और बाथरूम में ले आया | अब उसने बाकी सारे जूनियर लड़कों को जाने को बोला और कहा की शाम को फिर से मिलते हैं | फिर उसने बाथरूम का दरवाजा अन्दर से बंद कर दिया |

मैंने देखा की उसके अलावा 2 लड़के और थे और सब के सब हट्टे कट्टे | मुझे लगा की अब मुझे तगड़ी मार पड़ेगी | अब जिसने मुझे पकड़ा था वो बोला — हाँ, अब बोल तू | बडा गांड हिलाते हुए भाग रहा था न, अब बता | मेरे पास बोलने के लिए कुछ भी नही था | मैंने रहम की बात करते हुए बोला — सॉरी, मुझे मारना मत प्लीज आप लोग | आप जो कहोगे मैं करूंगा लेकिन मारना मर प्लीज | वो बोला — अच्छा !! मेरा लौड़ा चुसेगा ? चल नही मारूंगा, मैं क्या ये बाकी और कोई भी सीनियर नही मारेगा तुझे | बस आज तुझे मेरे लंड को खुश करना है | 

मैं सोच में पड़ गया | मुझे पता था की अगर उन्होंने मारा मुझे तो मैं सीधा हॉस्पिटल में जाऊंगा और उन्हें कोई सजा भी नही मिलेगी | मैं सोच ही रहा था की वो फिर बोला — अबे, टाइम नही है मेरे पास, जल्दी से बता | वो फिर से बोला — अबे शरमा मत, ले | इतना कह कर उसने अपनी पैंट की चैन खोल दी | अब उसका 7 इंच का लंड मेरे सामने था | मैंने हलके से देखा तो उसका लंड साफ़ था और झांटें भी नही थीं | मैं सोच ही रहा था की मार से बचने का यही तरीका है की उसने मुझे पकड़ा और मेरा मुंह पकड़ में उसमे अपना लंड घुसेड़ दिया | मैंने उस दिन पहली बार किसी का लंड लिया था अपने मुंह में | एक अजीब सा स्वाद था और साफ़ होने की वजह से बदबू नही आ रही थी | अब उसने मेरे मुंह को चोदना शुरू कर दिया | मेरे सामने कोई चारा न होने की वजह से मैंने भी अपनी जीभ को उसके लंड पर फिराना शुरु कर दिया और उसके लंड को अच्छे से चूसने लगा |

थोड़ी देर तक ऐसे ही चूसने के बाद मुझे भी मजा आने लगा | अब मैंने उसके लंड को हाथ से पकड़ा और अच्छे से चूसने लगा किसी लोलीपॉप की तरह | मैं मन ही मन सोच रहा था की मुझे कैसा लगेगा अगर ये लंड मेरी गांड में जाएगा | अचानक से मुझे अपने पीछे कुछ महसूस हुआ | मैंने लंड निकाल कर देखा तो बाकी लड़कों में से एक मेरी पैंट के ऊपर से ही अपना लंड निकाल कर सहला रहा था | आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है ।

मैं डर गया और सोच में पड़ गया की आज तो गयी मेरी गांड | अब उसने मेरी बेल्ट खोलनी शुरू कर दी तो मैंने रोका | वो बोला — हलके से करूंगा, दर्द नही होगा तुझे | शराफत से करवा ले वरना मार भी खाएगा और गांड भी देगा | मैं सहम गया | अब उसने मेरी बेल्ट खोल दी | मेरी पैंट निकालने के बाद उसको इतना जोश आ गया की उसने मेरी चड्ढी निकाली नही बल्कि फाड़ दी | मैं अच्छे से समझ चूका था की इस चड्ढी की तरह आज मेरी गांड भी फटने वाली है |आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है ।

उसने अब मुझे घोड़ी बनाया | मेरे पास कोई चारा तो था नही, मजबूरन बनना पड़ा | अब उसने अपना लंड मेरी गांड पर टिकाया | मैंने डर के मारे अपनी गांड को और कसा कर लिया | उसने मेरे चुतड पर एक जोर का थप्पड़ मारा और गांड खोलने के लिए बोला | मज़बूरी में मैंने गांड को ढीला किया | अब उसने अपने लंड पर थूक लगाया और एक जोर का धक्का दिया |

 उसका लंड तो घुसा नही लेकिन मेरी हालत खराब हो गयी और मैं ऊऊऊ ऊ इ इ ईई इ ई इ इ इ ई इ इ इ ई इ इ इ ई इ इ इ इ ई इ ई ईई इ इ ईईइ इ इ इ इ आह ह हह ह ह हह करने लगा | उसने अब और ज्यादा थूक लगाया और फिर से धक्का दिया | इस बार उसके लंड का टोपा मेरी गांड में अन्दर था | मेरी गांड में असह्य दर्द हो रहा था | मुझे रोना आ गया और मैं जोर जोर से आह्ह्ह ह ह ह हह ह हह ह हह हह ह ह ह ऊऊ उ उ ऊ उ उई इओई इ इ ई इ इ इ ई इ ई इ ईई इ ई इ इ ई इ करने लगा |

वो बोला — अबे तेरी गांड से तो खून आ रहा है, लगता है आज तेरी गांड फट गयी | खून की बात सुनकर मैं और डर गया | उसने खून को पोछा और फिर से अपना लौड़ा टिका कर धक्का दिया | इस बार धक्का बहुत जोर का था और उसका आधा लंड मेरी गांड में था | मुझे बहुत दर्द हो रहा था लेकिन वो मेरी मानने के मूड में नही था | उसने अपने लंड को अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया | रैगिंग में मेरा बलात्कार | xstoryhindi

इधर दूसरा बंदा अब मेरे सामने अपना लंड लेकर खड़ा था | मेरे सामने कोई चारा नही था इसीलिए मैंने उसका लंड चुसना शुरू कर दिया | मुझे दर्द हो रहा था इसिलए मैं आह्ह्ह ह ह ह ह हह ह ह हह ह हह उ ऊ उ उ ऊ इ ई इ इ ई इ इ ईई ईई इ ई इ ई इ ओह्ह ह हह ह ह हह ह ह हह हह ह हह ह ऊई इ ई इ इ ई इ इ ई इ इ इ ई इ ईईइ इ ईईइ इ इ इ कर रहा था |आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है ।

धीरे धीरे उसने पूरा लंड मेरी गांड में डाल दिया और चोदने लगा | अब मुझे दर्द के साथ साथ थोडा थोड़ा मजा भी आने लगा | मैंने भी अपनी गांड आगे पीछे करते हुए चुदवाना शुरू कर दिया | थोड़ी देर बाद वो मेरी गांड में ही झड गया | मुझे लगा की चलो अब तो फुर्सत मिली लेकिन तभी दूसरा लड़का आ गया और उसने अपना लंड घुसेड दिया मेरी गांड में | उसका लंड थोडा छोटा था इसीलिए मुझे कम दर्द ही रहा था | 

मैंने अब उससे अच्छे चुदवाना शुरू कर दिया | अब मैंने दो लड़कों के लंड चूस रहा था और एक से अपनी गांड मरवा रहा था | ऐसे करके तीनो लड़कों ने बारी बारी मेरी गांड मारी और मेरी गांड का कबाड़ा बना कर छोड़ दिया |

loading...
चुदवाने ले बाद मैंने कपडे पहने | मुझे चला नही जा रहा था लेकिन फिर भी मैं किसी तरह अपने अपने रूम तक पहुंचा और अगले दिन ही मैंने हॉस्टल छोड़ दिया | ये थी मेरी गांड चुदाई की कहानी | आशा है की मुझे तो दर्द हुआ था लेकिन इस कहानी को पढ़ के आप लोगों को मजा आया होगा |
Read More
b:if cond='data:view.isPost'>                                                           

Friday

समझ में आ गया होगा - xstoryhindi

समझ में आ गया होगा - xstoryhindi

मैं एक दिन मीरा से मिलने के लिए जाता हूं मैं जब उसके घर पर जाता हूं तो मैं आंटी से पूछता हूं कि क्या मीरा घर पर है तो आंटी कहती हैं हां बेटा मीरा तो घर पर ही है। मैं मीरा के पास जाता हूं तो मीरा काफी उदास नजर आती है मैं उसके बगल में जाकर बैठ जाता हूं उसे कुछ मालूम ही नहीं पड़ता वह ना जाने कौन से ख्यालों में खोई हुई थी। मैंने जब मीरा से इस बारे में पूछा कि तुम्हारा ध्यान कहां है तो उसने मेरी तरफ देखा और मुझे कहने लगी अरे तुम कब आए तो मैंने उसे बताया कि मैं बस अभी आया लेकिन तुम्हारा ध्यान ना जाने कहां है। मीरा मुझे कहने लगी नहीं ऐसा कुछ भी नहीं है मैं सिर्फ बैठी हुई थी लेकिन मुझे उसे देखकर लगा कि वह काफी परेशान है मैंने मीरा से उसकी परेशानी का कारण पूछा तो उसने मुझे उस दिन सब कुछ बता दिया।
समझ में आ गया होगा - xstoryhindi

हालांकि मीरा मुझे बचपन से जानती है और हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त है लेकिन ना जाने मीरा ने मुझे आज तक क्यों नहीं बताया मैंने मीरा से पूछा तुमने यह बात मुझे क्यों नहीं बताई। मीरा ने मुझे बताया कि राजीव और मैं एक दूसरे को चाहते थे लेकिन कुछ समय से हम दोनों के बीच में कुछ ठीक नहीं चल रहा। मैंने जब मीरा से इसका कारण पूछा तो मीरा ने मुझे बताया कि दरअसल राजीव को हमेशा यह लगता है कि मैं उसकी मदद करती हूं मैंने मीरा से पूछा तो इसमें गलत क्या है। मीरा का परिवार एक समर्थ परिवार है और मीरा के पापा भी एक बड़े बिजनेसमैन है इसलिए उन्हें शायद कभी पैसे की कोई कमी नही हुई हो लेकिन राजीव का परिवार एक मध्यमवर्गीय परिवार है शायद इसी वजह से उन दोनों के बीच में टकराव पैदा हो रहे थे।

 मैंने मीरा को समझाया तुम्हें इस बारे में राजीव से बात करनी चाहिए तो वह कहने लगी मैं भला उससे क्या बात करूं जब भी मैं उसकी आर्थिक रूप से कुछ मदद करती हूं तो वह मुझ पर गुस्सा हो जाता है। मैंने मीरा से कहा राजीव एक स्वाभिमानी लड़का होगा और शायद इसी वजह से वह तुम्हारी मदद नहीं लेना चाहता है। वह मुझसे कहने लगी मैं उसकी हर जगह मदद करना चाहती हूं मैं चाहती हूं कि वह अपना एक बिजनेस शुरू करें जिसमें कि वह एक अच्छा मुकाम हासिल करें तभी तो मैं पापा से राजीव के बारे में बात कर पाऊंगी लेकिन राजीव यह चाहता ही नहीं है। आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है ।

वह अपने बलबूते पर सब कुछ करना चाहता है लेकिन उसके बिना मेरा जीवन बहुत अधूरा है अब तुम ही बताओ कि मैं क्या करूं। मैंने मीरा को समझाया और कहा कि सबसे पहले तो तुम यह टेंशन अपने दिमाग से निकाल दो और तुम राजीव के बारे में चिंता करना छोड़ दो तुम सिर्फ अपने ऊपर ध्यान दो और खुश रहने की कोशिश किया करो। तुम अपने चेहरे की तरफ देखो तुम्हारा चेहरा पूरी तरीके से उतरा हुआ है और तुम उदास बिल्कुल भी अच्छी नहीं लगती तो मीरा मुझे कहने लगी हां ठीक है मैं खुश होने की कोशिश करती हूं लेकिन तुम यह बताओ तुम यहां क्या कुछ काम से आए थे। मैंने मीरा से कहा नहीं मैं ऐसे ही आया था मैंने सोचा तुमसे मिले हुए काफी दिन हो चुके हैं तो तुमसे मिलता हुआ चलूँ लेकिन जब तुमसे मुलाकात हुई तो तुम्हारी टेंशन देखकर मुझे लग रहा है कि मैं शायद आज नहीं आता तो अच्छा रहता। मीरा मुझे कहने लगे क्यों ऐसा क्यों कह रहे हो तो मैंने उसे बताया यदि मैं आज नहीं आता तो शायद मुझे राजीव के बारे में मालूम नहीं पड़ता लेकिन छोड़ो अब यह बात, तुम बस अपने चेहरे पर खुशी लाने की कोशिश करो और तुम खुश रहा करो।

 मीरा मुझे कहने लगी हां ठीक है मैं कोशिश करूंगी मैंने मीरा से कहा मैं अभी चलता हूं क्योंकि मुझे पापा के साथ जाना है आज एक जरूरी मीटिंग है। मीरा कहने लगी ठीक है मैंने मीरा से कहा कि यदि कोई परेशानी हो तो तुम मुझे फोन कर लेना और फिर मैं वहां से अपने घर चला गया मैं पापा के साथ चला गया और उस दिन हम लोगों की एक बड़ी मीटिंग थी जो कि बहुत ही अच्छी रही। पापा बहुत खुश थे क्योंकि पापा चाहते थे कि उस मीटिंग में हमारा प्रोजेक्ट पास हो जाए और हमारा प्रोजेक्ट वहां पास हो चुका था।

कुछ दिनों बाद मुझे मीरा का फोन आया और वह मुझे कहने लगी मुझे तुम्हारी मदद की जरूरत है मैंने मीरा से कहा हां मीरा कहो तुम्हे क्या मदद की आवश्यकता है मीरा मुझे कहने लगी दरअसल मुझे तुम्हें राजीव से मिलवा ना था यदि तुम्हारे पास समय हो तो क्या तुम आ सकते हो। मैंने मीरा से कहा क्यों नहीं हम लोग मिलते हैं मैं बस कुछ ही देर में तुम्हारे घर पर आता हूं तुम तब तक तैयार हो जाना और हम लोग वहां से राजीव से मिलने के लिए चलेंगे। मैं करीब एक घंटे बाद मीरा के घर पहुंच गया मीरा भी तैयार हो चुकी थी और हम दोनों वहां से राजीव के पास चले गए हम लोग कार में ही बैठे हुए थे।  आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है ।

 और एक दूसरे से बात करने लगे मैं पहली बार ही राजीव से मिला था। राजीव देखने में तो अच्छा था और सब कुछ ठीक था लेकिन जब उसने मीरा से बात की तो मुझे लगा कि शायद कहीं ना कहीं उन दोनों के बीच में बहुत टकराव पैदा हो चुके हैं और शायद अब दोनों का रिश्ता ठीक नहीं हो पाएगा। फिर भी मैंने कोशिश की और राजीव को समझाते हुए कहा कि देखो राजीव शायद हो सकता है तुम्हे मेरी किसी बात का बुरा लगे लेकिन तुम्हारे परिवार और मीरा के परिवार में काफी अंतर है इसलिए तुम इन चीजों को समझने की कोशिश करो। मीरा ने मुझे तुम्हारे बारे में बताया था तुम बहुत ही स्वाभिमानी हो यह बात तो ठीक है लेकिन मीरा चाहती है कि तुम भी अब पैसे वाले व्यक्ति बनो जिससे कि मीरा अपने घर पर अपने पापा से इस बारे में बात कर पाए।

राजीव मुझे कहने लगा तुम्हारी बात तो ठीक है लेकिन मैं अपनी मेहनत से ही सब कुछ करना चाहता हूं और मीरा चाहती है कि हमेशा वह मेरी मदद करते रहे। मैं बिल्कुल भी नहीं चाहता कि मैं मीरा से किसी भी प्रकार की मदद लूँ अब तुम ही बताओ इसमें मेरी कहां गलती है। मैंने राजीव से कहा देखो ना तो तुम गलत हो ना ही मीरा गलत है बस तुम दोनों को आपस में बैठ कर बात करनी चाहिए कि आखिरकार तुम्हें करना क्या है। मीरा तुमसे बहुत प्यार करती है और ऐसे में तो तुम उसे खो बैठोगे और आजकल तुम्हें तो मालूम है कि मेहनत करने से भी इतनी जल्दी पैसे मिलते नहीं है। मैंने उस दिन राजीव को काफी समझाया और हम लोग काफी देर तक साथ में बैठे रहे हैं परंतु मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी कि राजीव को कुछ चीजें समझ आएगी।

 हम लोग सब घर आए तो मीरा मुझे कहने लगी मुझे बहुत ही बुरा सा लग रहा है मैंने मीरा से कहा ऐसा क्यों तो मीरा कहने लेकिन पता नहीं क्यों मुझे बड़ा ही अजीब सा महसूस हो रहा है। मैंने मीरा से कहा तो फिर हम लोग तुम्हारे घर पर चलते हैं। मैं मीरा के साथ उसके घर पर चला गया हम दोनों बैठकर आपस में बात करने लगे मीरा मुझे कहने लगी मुझे राजीव को खोने का बहुत डर लगता है और हमेशा ही मैं इस बारे में सोचती हूं तो मेरे पैरों तले जमीन खिसक जाती है। मैंने मीरा से कहा तुम टेंशन मत लो सब कुछ ठीक हो जाएगा राजीव को सब कुछ समझ आ जाएगा और मैंने उसे समझाने की कोशिश की है तुम बिल्कुल भी चिंता मत करो सब कुछ ठीक हो जाएगा। मीरा रोने लगी वह बहुत दुखी हो गई उसने मेरे कंधे पर सर रख लिया और कहने लगी अमित मुझे बहुत डर लग रहा है कि मैं कहीं राजीव को खो ना दूं।आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है

मैंने मीरा से कहा तुम ऐसी बातें मत किया करो सब कुछ ठीक हो जाएगा मैंने मीरा की जांघ पर हाथ रखा तो मेरे अंदर एक अजीब सी हलचल पैदा होने लगी। मैंने बचपन से लेकर अब तक मीरा के बारे में कभी ऐसा कुछ नहीं सोचा था लेकिन ना जाने उस दिन ऐसा क्या हुआ कि मेरे अंदर एक अलग ही एहसास मीरा को लेकर होने लगा। मैंने मीरा को गले लगाया तो वह भी मुझसे चिपक कर रोने लगी और ना जाने हम दोनों के अंदर उस दिन ऐसा क्या हुआ कि हम दोनों ने एक दूसरे को किस कर लिया काफी देर तक तो मुझे बहुत ही अजीब सा महसूस हुआ लेकिन जब मीरा को भी अच्छा लगने लगा तो मैंने उसके होठों को काफी देर तक किस किया।

 उसके बाद मैंने उसके स्तनों का भी रसपान करना शुरू कर दिया उसे बड़ा मजा आ रहा था और वह अपने मुंह से बडी ही मादक आवाज निकाल रही थी। मैंने जब उसकी योनि को चाटना शुरू किया तो वह पूरी तरीके से उत्तेजित हो चुकी थी, उसके अंदर का जोश बढ चुका था उसकी योनि से तरल पदार्थ बाहर निकलने लगा। जब मैंने अपने लंड को उसकी चूत पर सटाया तो उसकी योनि से गर्म पानी बाहर की तरफ निकल रहा था मैंने धीरे धीरे धक्का देते हुए अंदर की तरफ उसकी योनि में अपने लंड को प्रवेश करवा दिया।

जैसे ही उसकी योनि में लंड प्रवेश हुआ तो वह चिल्ला उठी और मुझे बड़ा मजा आने लगा। मेरा 9 इंच मोटा लंड उसकी योनि में जा चुका था उसके मुंह से सिसकिया निकलने लगी लेकिन मुझे उसे धक्के देने में बड़ा मजा आता वह अपने दोनों पैरों को चौड़ा करने लगी ताकि मेरा लंड आसानी से उसकी योनि में जा सके और मैं उसे धक्के दे सकूं। मैं बड़ी तेज गति से उसकी योनि मे अपने लंड को अंदर बाहर कर रहा था और उसे बड़ा मजा आता। काफी देर तक हम दोनों के बीच ऐसा ही चलता रहा, जब हम दोनों पूरी तरीके से पसीने पसीने हो गए तो उसे ना तो मैं बर्दाश्त कर पा रहा था और ना ही मीरा बर्दाश्त कर पा रही थी मैंने अपने लंड को बाहर निकाला और मीरा के स्तनों पर अपने वीर्य को गिरा दिया। आप सेक्स स्टोरी xstoryhindi.com/ से पड़े रहे है

वह खुश हो गई और मुझे कहने लगी मुझे बहुत अच्छा लग रहा है ना जाने उसे ऐसा क्यों लगा लेकिन अब भी वह राजीव के साथ रिलेशन में है और उन दोनों का रिलेशन मुझे लगता नहीं कि ज्यादा समय तक चलेगा परंतु उस दिन जो हमारे बीच में हुआ उससे मुझे बहुत खुशी हुई।
Read More
b:if cond='data:view.isPost'>                                                                       

Saturday

सीमा और उसकी बेटी की चुदाई-1 (Seema Aur Uski Beti Ki Chudai-1) -Xstoryhindi

मैं अपना परिचय दे दूँ, मेरा नाम विमल खुराना है, उम्र ५२ साल, कद ५’-१०”, रंग गोरा और बदन गठीला है। मैं स्टेट बैंक में मैनेजर हूँ, मेरे घर में मेरी पत्नी और दो बेटे हैं, जो कक्षा ८ और १० में पढ़ते हैं।
बात लगभग एक साल पहले की है जब मेरा तबादला आगरा से जयपुर हुआ तो पत्नी और बच्चों को आगरा में ही छोड़कर मैं अकेले जयपुर आ गया। जयपुर में मैंने जो मकान किराये पर लिया उसके मालिक का नाम था मूल चंद मनवानी, उसकी उम्र लगभग ५४ साल, कद ५’-६”, रंग गोरा और बदन ढीला ढाला, पेशा जूते की दुकान। उसके घर में उसकी पत्नी सीमा, उम्र लगभग ५० साल, कद ५’-५”, रंग गोरा और बदन भरा-पूरा। खंडहर बताते थे इमारत कभी बुलंद थी। इनकी एक लड़की पायल थी जिसकी उम्र करीब अट्ठारह-उन्नीस साल, कद ५’-५”, रंग गुलाबी और बदन अपनी मां की तरह भरापूरा था, एक नज़र में फिल्म स्टार ममता कुलकर्णी लगती थी।
मैं सुबह नहा धोकर निकलता, रेस्तरां में नाश्ता करता और बैंक चला जाता, दोपहर का खाना टिफन वाला बैंक में दे जाता और रात को होटल में खाता था।
इस तरह दिन कट रहे थे कि एक दिन मूल चंद जी बोले- खुराना साब, क्यूँ होटल बाज़ी करते हैं, यहीं घर में खाया कीजिये।
मेरे मना करने पर बोले- जो मुनासिब हो, पैसे दे दिया करिए, यानी आप किरायेदार से पेइंग गेस्ट बन जाइए। मुझे भी ठीक लगा और मैं उनके घर मैं खाने लगा। उनके घर खाना खाने से हुआ यह कि मैं सीमा की तरफ आकर्षित होने लगा और उसको चोदने की सोचने लगा।
एक दिन मैंने बैंक से छुट्टी ली और सिरदर्द का बहाना बनाकर घर मैं लेटा रहा।
loading...

जब नाश्ता करने उनके घर नहीं गया तो मूल चंद और पायल के जाने के बाद सीमा आई और पूछा- आज आप नाश्ता नहीं करेंगे क्या?
मैंने बताया- तबियत खराब है !
तो बोली- मैं चाय बनाकर लाती हूँ !
मैंने कहा- चाय ना लाइये, कोई बाम हो तो ले आइये !
वो गई और बाम ले आई तथा मेरे कहने पर मेरे माथे पर मलने लगी। दोनों के शरीर करीब आये साँसे मिलने लगीं तो मैंने पहल की और उसने भी विरोध नहीं किया, हम दोनों नंगे हो गए और मेरा लंड उसकी चूत के अन्दर चला गया। उस दिन से लगभग रोज़ हमारा प्रोग्राम बन जाता।
एक दिन मैं उसको चोद रहा था, कमरे का दरवाजा बंद था, खिड़की का पर्दा लगा था, मुझे एहसास हो गया कि पायल आ गई है और खिड़की के बाहर से अन्दर के माहौल का अंदाज़ लगा रही है।
उसको सुनाने के उद्देश्य से मैंने सीमा से पूछा- सीमा जब मेरा लंड तुम्हारी चूत के अन्दर बाहर होता है तो मज़ा आता है?
तो बहुत सेक्सी आवाज में सीमा ने कहा- राजा इतना मज़ा इससे पहले कभी नहीं आया !
सीमा को चोदते हुए अभी एक महीना भी नहीं हुआ था कि उसकी बेटी पायल यह जान गई थी कि मैं उसकी माँ सीमा को चोदता हूँ। हालाँकि सीमा को यह नहीं मालूम था कि पायल यह सब जानती है। मेरा ध्यान अब कच्ची कली को फूल बनाने पर लगा हुआ था। जल्दी ही भगवान ने मेरी सुन ली, सीमा का मायका अलवर में था और उसकी माँ की तबियत खराब होने की खबर आई तो वह एक हफ्ते के लिए अलवर चली गई, जाते समय मुझसे बोली- तुम्हें बहुत मिस करूंगी !
मैंने मुस्कुरा कर कहा- मैं भी !
उसके जाने के बाद मैं नाश्ता करने गया तो पायल से इधर उधर की बातें होने लगीं। मैं उसकी झिझक दूर करना चाहता था। बातों बातों में उसने बताया कि परसों मेरा जन्मदिन है और मैं १८ साल की हो जाऊंगी।
मैंने पूछा- तुम्हारे जन्मदिन पर तुम्हें क्या तोहफ़ा दूं ?
बोली- कुछ नहीं !
मैं जानता था कि मूल चंद बहुत कंजूस टाइप का आदमी है और परिवार पर ज्यादा खर्च नहीं करता है। मैंने कहा- रात को जब तुम्हारे पापा आ जायेंगे तो उनसे बात करूंगा और कल तुमको मार्केट ले जाऊंगा, एक सुन्दर सा सूट दिलाऊँगा।
मेरी बात सुनकर बहुत खुश हो गई। मैं नाश्ता कर चुका था इसलिए उठा और बैंक चला गया। रात को खाने के समय मैंने मूल चंद से कहा- परसों पायल का जन्मदिन है और मैं इसे एक सूट उपहार में देना चाहता हूँ, अगर आपकी इजाज़त हो तो कल इसको मार्केट से दिलवा दूं?
मूल चंद लालची तो था ही, हल्की सी मनाही के बाद बोला- जो आपकी मर्ज़ी !
खाना खाकर मैं अपने कमरे में आ गया और आगे की योजना बनाने लगा। सुबह मूल चंद के जाने के बाद मैं नाश्ता करने गया तो मैंने पायल से कहा- ११ बजे तक तैयार हो जाना, मार्केट चलेंगे, पिक्चर देखेंगे और वहीं खाना खायेंगे ! पायल के चेहरे और मेरे लंड की रौनक देखने लायक हो रही थी।
मैं बैंक गया और बहाना बनाकर ११ बजे वापस आ गया, पायल तैयार थी, गज़ब ढा रही थी। हम लोगों ने पहले सूट ख़रीदा, फिर उसकी झिझक खोलते हुए उसको ब्रा और पैंटी भी दिलवा दी। इसके बाद हम लोग पिक्चर देखने लगे। इंटरवल तक हम लोग आराम से बैठे रहे, इंटरवल में पोपकोर्न लिए, खाते खाते पिक्चर शुरू हो गई। अब पोपकोर्न लेने के चक्कर में हमारे हाथ छुए तो शुरुआत हो गई। पोपकोर्न खत्म होने के बाद मैंने उसका हाथ पकड़ा, कुछ नहीं बोली तो मैंने उसका हाथ सहलाना शुरू कर दिया और थोड़ी देर में मेरा लंड एकदम टाइट हो गया तो मैंने पायल का हाथ अपने लंड पर रख दिया और अपना हाथ उसकी जांघ पर रखा तथा सहलाने लगा।
मैंने उससे कहा- तुम भी सहलाओ ! तो वह मेरे लंड पर हाथ फेरने लगी। मैंने अपना दूसरा हाथ उसके मम्मे पर रखा और हल्के-हल्के दबाने लगा। इसी समय पिक्चर खत्म हो गई और हम खाते पीते घर आ गए। आज पहला दिन था और उसे खाना भी बनाना था, इसलिए घर आकर हमने कुछ नहीं किया। वह अपने घर चली गई और मैं अपने कमरे में ! मैंने बाथरूम जाकर मुठ मारी, अपने लंड को ठंडा किया और सो गया।
रात को करीब १० बजे मूल चंद की आवाज से नींद खुली, सबने एक साथ खाना खाया। खाने के दौरान पायल की भूखी प्यासी आँखें मुझे और मेरी आँखें उसे देखती रहीं। मूल चंद तो १५००/- का सूट देखकर गीला हो गया था।
अगले दिन सुबह सोकर उठा तो पहला काम पायल को फ़ोन करके हैप्पी बर्थडे कहा।
बोली- थैंक्यू !
तो मैंने कहा- पायल, आई लव यू !
शर्माते हुए बोली- आई लव यू टू !
रास्ता साफ़ था, बस मूल चंद के दुकान जाने की देर थी, मुझे मालूम था कि आज १८ साल की नई नवेली चूत मिलने वाली है, मैं भी डाबर शिलाजीत गोल्ड के २ कैप्सूल खाकर अपनी जवानी में चार चाँद लगा चुका था। मूल चंद को दुकान गए १० मिनट हो गए तो मैं पायल के कमरे की तरफ गया, कमरा अन्दर से बंद था, आवाज़ देने के २ मिनट बाद दरवाज़ा खुला तो मैं गश खाकर गिरने वाला था, मेरी दुल्हन पायल मनवानी गुलाबी रंग के नए सूट में बिजली गिरा रही थी। मैं कमरे के अन्दर गया तो उसने दरवाज़ा बंद कर दिया। मैंने अपनी बाहें फैलाईं तो चली आई।
मैंने कहा- पायल आज तुम १८ साल की हो गई हो और १८ साल की लड़की को सरकार इजाज़त देती है वह जो चाहे कर सकती है, वह चाहे तो नया सूट पहन सकती है और चाहे तो सूट दिलाने वाले को सूट उतारने का मौका दे सकती है, क्या तुम मुझे ये मौका दोगी कि मैं देख सकूं कि तुम नई ब्रा और पैंटी में कैसी लगती हो ?
कुछ नहीं बोली, बस सीने से लग गई, मैंने उसका सूट उतारा फिर थोड़ी देर तक चूमने चाटने के बाद ब्रा और पैंटी भी उतार दी, उसे गोद में उठाया और बेड पर ले आया। बेड पर लिटाते ही अपने होंठ उसकी चूत पर रखे तो उसे करंट सा लगा, मुझे लगा लोहा गरम है, अपने कपड़े उतारे, जेब से कंडोम निकालकर अपने तन्नाये हुए लंड पर चढ़ाया और लंड को उसकी चूत के मुंह पर रखते हुए कहा- पायल डार्लिंग ! यह रहा तुम्हारा असली बर्थडे गिफ्ट !
पहले झटके में आधा और दूसरे झटके में पूरा लंड उसकी चूत में समा गया, थोड़ा सा कसमसाई लेकिन झेल गई।
अब मेरा लंड उसकी चूत में था और उसका एक मम्मा मेरे मुंह में तथा दूसरा मेरे हाथ में था। आधे घंटे से ज्यादा देर तक चोदने के बाद जब मेरे लंड से पिचकारी छूटी तो भूचाल आ गया। अपना लंड जब उसकी चूत से निकाला तो चादर पर फैला खून देखकर एक बार तो मैं घबरा गया लेकिन पायल का सुकून भरा चेहरा देखकर राहत की सांस ली। हम दोनों बाथरूम गए मिलकर नहाए और बेड पर आ गए।
कुछ देर बाद मैंने उसका चेहरा अपने हाथों में लेकर उसके होठों को चूसना शुरू किया और उसका हाथ अपने लंड पर रख दिया जिसे वह सहलाने लगी। थोड़ी देर में लंड खडा हो गया तो मैंने पोजीशन बनाकर लंड उसके मुंह में दे दिया. कुछ देर बाद उसने मुंह से मेरा लंड निकाला और मेरा हाथ पकड़कर अपनी चूत पर रख दिया, मैं समझ गया चुदासी है !
मैंने जेब से दूसरा कंडोम निकाला, लंड पर चढ़ा कर लंड उसके हाथ में दे दिया, उसने लंड को अपनी चूत पर रखा और मुझे अपने ऊपर खींच लिया। उस दिन मैंने उसको चार बार चोदा और सीमा के आने तक यह कार्यक्रम चलता रहा।
सीमा के आने के बाद कहानी में कहाँ मोड़ आया, यह अगले भाग में….
loading...
Read More
b:if cond='data:view.isPost'>                                                                                   

Monday

(Jakabell XXX) Gangbang Creampie G222 Charlotte Cross

                                   Image



               Video Watch click and open



Advertisement

pay for money and before enjoy for me sex chat and video calling ,sex date me Payment this  link  And enjoy me
 coming soon  I am waiting for you 

Pay for you

And automatically show Website

   Payment   

Finally Shere this video and support me  
Read More
b:if cond='data:view.isPost'>                                                           

Wednesday

Wala si Dad Tara Sex Tayo porncenity - xstoryhindi

                                 Image

                     Video Watch click and open

  

Advertisement

pay for money and before enjoy for me sex chat and video calling ,sex date me Payment this  link  And enjoy me
 coming soon  I am waiting for you 

Pay for you

And automatically show Website

   Payment   

Finally Shere this video and support me  

Tag = The Sex Trip 2017 WEBRip x264 -Xstoryhindi,desi kahani,bhabhi story,bhabhi ki,bhabhi ki kahani,hot kahani,hindi bhabhi,savita comics,watch,label,hindi hot story,bhabhi ko,hot hindi kahani,hindi saxy story,bhabhi ki jawani,bhabhi ki story,bhabhi comics,bhabhi ki bur,devar aur bhabhi,desi hindi story,devar bhabhi story,hot bhabhi story,devar bhabhi ki kahani,desi bhabhi story,devar bhabhi ki,devar bhabhi hindi,chodan story,kahani bhabhi ki,devar bhabhi sms,desi saxy story,bhabhi hindi story,desi hindi kahani,saxy story,saxy bhabhi,on 8,saxi bhabhi,hindi desi kahani,desi bhabhi kahani,indian bhabhi stories,saxy bhabi,bhabhi devar ki kahani,bhabhi ki chodae,bhabhi story photo,bhabhi ke,desi bhabhi ki kahani,my hot bhabhi,desi bhabhi ki,bhabhi ki stori,bhabhi devar ki,savita free,xxx kahani,watch watch watch,bhabhi ki kahani hindi,bhabhi aur,open watch,desi kahani in hindi,devar bhabhi xx,bhabhi hindi kahani,sax kahani,devar story,bhabhi aur devar ki,desi hindi kahaniya,devar bhabhi ki story,hot bhabhi kahani,bhabhisexstories,hindi bhabhi ki,postage label,savita hindi comics,hindi x story,bhabhisexstory,hot bhabhi ki kahani,hindi sxe story,bhavi sax,postüp,xxx hindi story,savita story,desi bhabhi 2016,hindi saxi story,bhabhi ka devar
Read More
b:if cond='data:view.isPost'>                                                           

हमारी वेबसाइट पर हर रोज नई कहानियां प्रकाशित की जाती हैं

हमारी वेबसाइट पर हर रोज नई कहानियां प्रकाशित की जाती हैं